पाकिस्तान के साथ कोई बातचीत नहीं होनी चाहिए: एमएस बिट्टा

पठानकोट में एयर बेस पर संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा किए गए हमले की कड़ी निंदा करते हुए अखिल भारतीय आतंकवाद निरोधक मोर्चा के अध्यक्ष एम एस बिट्टा ने आज कहा कि जब तक सीमा पार से आतंकवाद बंद नहीं होता, तब तक पाकिस्तान से कोई बातचीत नहीं होनी चाहिए।

पाकिस्तान के साथ कोई बातचीत नहीं होनी चाहिए: एमएस बिट्टा

चंडीगढ़: पठानकोट में एयर बेस पर संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा किए गए हमले की कड़ी निंदा करते हुए अखिल भारतीय आतंकवाद निरोधक मोर्चा के अध्यक्ष एम एस बिट्टा ने आज कहा कि जब तक सीमा पार से आतंकवाद बंद नहीं होता, तब तक पाकिस्तान से कोई बातचीत नहीं होनी चाहिए।

बिट्टा ने कहा, यह एक कायरतापूर्ण कृत्य है। मेरा विचार है कि पाकिस्तान से तब तक किसी तरह की बातचीत नहीं होनी चाहिए जब तक सीमा पार से आतंकवादी घटनाएं बंद नहीं होती हैं। भारत को पाकिस्तान के साथ बातचीत तत्काल बंद करनी चाहिए, सीमा को पूरी तरह बंद किया जाना चाहिए और लाहौर बस सेवा, रेल सेवा को निलंबित करते हुए अन्य संपर्क खत्म करने चाहिए। उन्होंने कहा कि हमले का समय उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की लाहौर यात्रा की याद दिलाता है जब पाकिस्तानी सेना कारगिल में हमले की योजना बना रही थी। बिट्टा वर्ष 1993 में दिल्ली में आतंकवादी हमले में बच गये थे। उस समय वह युवा कांग्रेस के अध्यक्ष थे।

बिट्टा ने बताया, मेरे ख्याल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था, हालांकि यह औपचारिक यात्रा नहीं थी। मुझे लगता है कि पाकिस्तान में आईएसआई सरकार से अधिक शक्तिशाली है। जब भी हमारी तरफ से कोई अच्छी पहल की जाती है, वे हम लोगों को धोखा देते हैं। उन्होंने कहा मेरा कहना है कि राजनीतिक पार्टियों को अपनी नीतियों में परिवर्तन करते हुए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को शीर्ष प्राथमिकता देना होगा, अन्य चीजें इसके बाद आ सकती है। अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो कोई भी इस देश को नहीं बचा पायेगा।