J&K Encounter: सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया जैश आतंकी, सुरक्षा बल भी घायल

सुरक्षा बल घायल जवान को निकालने की कोशिश कर रहे थे, तभी आतंकी जंगल की तरफ भागने लगे. इसके बाद शुरू किए गए सर्च ऑपरेशन में जंगल के इलाके में पड़ने वाले गांव नांगाडेर (Nagander) में हुए मुठभेड़ में आतंकी मारा गया.

J&K Encounter: सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया जैश आतंकी, सुरक्षा बल भी घायल
मुठभेड़ में मारा गया आतंकी.

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा स्थित जेनत्राग (Zaintrag) में गुरुवार तड़के एक आतंकी मारा गया. सुरक्षाबलों को सूचना मिली थी कि एक विदेशी समेत जैश ए मोहम्मद के आतंकी मौजूद हैं. इसी सिलसिले में सुरक्षाबल सर्च ऑपरेशन चला रहे थे, तभी हुए मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया. हालांकि एक आतंकी भागने में सफल रहा. उसकी तलाश की जा रही है. इस मुठभेड़ में दो जवान भी घायल हुए हैं.

सुरक्षा बल घायल जवान को निकालने की कोशिश कर रहे थे, तभी आतंकी जंगल की तरफ भागने लगे. इसके बाद शुरू किए गए सर्च ऑपरेशन में जंगल के इलाके में पड़ने वाले गांव नांगाडेर (Nagander) में हुए मुठभेड़ में आतंकी मारा गया. सुरक्षा बलों में दोनों आतंकियों के शव बरामद कर लिए हैं, जिनके पास से भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद हुए हैं. दूसरे आतंकी का पता नहीं चल पाया है, इसलिए उसकी तलाश की जा रही है.

दक्षिण कश्मीर में मुठभेड़ में 2 आतंकी ढेर
इससे पहले 21 जनवरी को जम्मू एवं कश्मीर के त्राल क्षेत्र में हुए एक मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए थे. वहीं इस कार्रवाई में दो सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं. खबरों के अनुसार, त्राल के जांद गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में पुलिस के पास एक विशिष्ट जानकारी थी. क्षेत्र की घेराबंदी कर खोजी अभियान चलाया गया. एक घर में छिपे आतंकवादियों के बारे में जैसे ही पता चला उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी.

कश्मीर में यह दो दिन में दूसरी बड़ी मुठभेड़ की घटना है. शोपियां में सोमवार को भी तीन आतंकवादी मारे गए थे. इसमें हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर वसीम, आदिल बशीर और जहांगीर शामिल था. घाटी में चार सुरक्षाकर्मियों की हत्या के मामले सहित वसीम आठ लोगों की हत्या में शामिल था. पिछले साल आदिल ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के तत्कालीन विधायक एजाज मीर के आधिकारिक आवास से आठ एके 47 राइफल्स के साथ भाग गया था.

जम्मू-कश्मीर : गणतंत्र दिवस से पहले हाईअलर्ट
जम्मू-कश्मीर में गणतंत्र दिवस से पहले संभावित आतंकी हमलों की खुफिया सूचना के बाद से हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है. सूत्रों ने कहा कि जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को पाकिस्तान के उनके आकाओं द्वारा गणतंत्र दिवस तक भयावह हमले को अंजाम देने का काम सौंपा गया है.

ऐसे इनपुट हैं कि आतंकवादी दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर और जम्मू क्षेत्र में पीर पंजाल के दक्षिण में रक्षा चौकियों पर आत्मघाती हमले कर सकते हैं. इनपुट के मुताबिक, श्रीनगर व बडगाम जिलों के इलाके में आतंकवादियों की गतिविधि ट्रैक की गई है.

बीते हफ्ते श्रीनगर पुलिस ने पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के एक मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया और उसके पांच गुर्गो को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार आतंकवादियों के पास से एक सुसाइड वेस्ट व बम बनाने की सामग्री बरामद की गई थी. बीते साल 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 को रद्द करने के बाद जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में पहले गणतंत्र दिवस से पहले सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

हाल में श्रीनगर में अपने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि गणतंत्र दिवस से पहले संभावित आतंकवादी हमलों के बारे में कोई विशेष जानकारी नहीं है, लेकिन सुरक्षा बलों द्वारा बरामद हथियारों और गोला-बारूद को देखते हुए आतंकवादियों को कोई मौका नहीं दिया जाएगा.