भारत के वैक्सीन अभियान को EU से झटका, Covishield लगवाने वालों को नहीं मिलेगा ग्रीन पास!

भारत में निर्मित कोविशील्ड (Covishield) को अभी तक ईएमए (EMA) द्वारा मान्यता नहीं दी गई है, जबकि वैक्सजेवरिया और कोविशील्ड दोनों ही एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन हैं. भारत में कोविशील्ड की निर्माण पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने किया है.

भारत के वैक्सीन अभियान को EU से झटका, Covishield लगवाने वालों को नहीं मिलेगा ग्रीन पास!
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: भारत ने कोरोना वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination) के मामले में विश्व रिकॉर्ड बना दिया है और विश्व में सबसे ज्यादा डोज लगाने वाला देश बन गया है. लेकिन इस बीच वैक्सीन अभियान को यूरोपीय संघ (EU) से बड़ा झटका लगा है और संकेत मिल रहे हैं कि कोविशील्ड (Covishield) का टीका लगवाने वाले यात्रियों को यूरोपीय संघ का 'ग्रीन पास' नहीं दिया जाए़. बता दें कि ईयू के वैक्सीन पासपोर्ट यानी ग्रीन पास लिस्ट में कोविशील्ड को शामिल नहीं किया गया है.

ईयू-वाइड मार्केटिंग ऑथराइजेशन प्राप्त टीकों को मंजूरी

यूरोपीय संघ (EU) ने पहले कहा था कि सदस्य देश कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) के प्रकार की परवाह किए बिना प्रमाण पत्र यानी ग्रीन पास जारी कर सकते हैं. हालांकि अब संकेत मिल रहे हैं कि ईयू-वाइड मार्केटिंग ऑथराइजेशन प्राप्त टीका लगवाने वालों को ही ग्रीन पास दिया जाएगा. 1 जुलाई से EU के सभी सदस्य देशों में डिजिटल COVID प्रमाणपत्र जारी किया जाएगाजिसे ग्रीन पास के रूप में भी जाना जाता है.

अब तक इन टीकों को मिली है मंजूरी

बता दें कि मौजूदा समय में यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (EMA) द्वारा चार टीकों को मंजूरी दी गई है, जिन्हें लगवाने वाले लोगों को ही यूरोपीय संघ के सदस्य देशों द्वारा ग्रीन पास जारी किया जा सकता है. ईएमए ने फाइजर/बायोएनटेक की कॉमिरनाटी, मॉडर्ना, एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वेक्सजेरविरिया और जॉनसन एंड जॉनसन की जेनसेन को मंजूरी दी है.

कोविशील्ड को नहीं मिली है मान्यता

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में निर्मित कोविशील्ड (Covishield) को अभी तक ईएमए (EMA) द्वारा मान्यता नहीं दी गई है, जबकि वैक्सजेवरिया और कोविशील्ड दोनों ही एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन हैं. भारत में कोविशील्ड की निर्माण पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने किया है, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंजूरी दे दी है.

सबसे ज्यादा वैक्सीन देने वाला देश बना भारत

भारत, अमेरिका को पीछे छोड़कर सबसे ज्यादा कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) देने वाला देश बन गया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, भारत में अब तक (28 जून, सुबह 7 बजे तक) कोरोना वैक्सीन की 32 करोड़ 36 लाख 63 हजार 297 डोज लागई जा चुकी हैं, जबकि अमेरिका में 32 करोड़ 33 लाख 27 हजार 328 डोज दी गई है. इस मामले में तीसरे नंबर पर यूके है, जहां अब तक 7 करोड़ 67 लाख 74 हजार 990 डोज लगाई गई है. इसके बाद जर्मनी में 7 करोड़ 14 लाख 37 हजार 514 डोज, फ्रांस में 5 करोड़ 24 लाख 57 हजार 288 डोज और इटली में 4 करोड़ 96 लाख 50 हजार 721 डोज लगाई गई हैं.

लाइव टीवी

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.