TRF ने कश्मीर में बसने की योजना बनाने वाले 'भारतीयों' को जान से मारने की दी धमकी

टीआरएफ को प्रतिबंधित पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का ही मोर्चा कहा जाता है.

TRF ने कश्मीर में बसने की योजना बनाने वाले 'भारतीयों' को जान से मारने की दी धमकी
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली/श्रीनगर: कश्मीर (Kashmir) के लिए पाकिस्तान (Pakistan) के नए आतंकी समूह 'द रेजिस्टेंस फ्रंट' (TRF) ने गैर-कश्मीरियों को अधिवास (डोमिसाइल) कानून के तहत केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में बसने की कोशिश करने पर जान से मारने की धमकी दी है.

टीआरएफ को प्रतिबंधित पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) का ही मोर्चा कहा जाता है. इसने ऑनलाइन मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर अपने चैनलों के माध्यम से जारी किए गए एक बयान में खुले तौर पर यह धमकी दी है.

ये भी पढ़ें- J&K में पकड़ा गया नार्को टेरर माड्यूल, चाइनीज पिस्टल के साथ हैंडग्रेनेड भी बरामद

टीआरएफ ने धमकी देते हुए कहा, कोई भी भारतीय जो कश्मीर में बसने के इरादे से आएगा, वह एक नागरिक के तौर पर नहीं, बल्कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक एजेंट के रूप में माना जाएगा और उससे ठीक ढंग से निपटा जाएगा."

आतंकी संगठन की ओर से उसके लेटरहेड पर जारी यह धमकी केंद्र सरकार द्वारा जम्मू एवं कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश के लिए एक नए अधिवास कानून पेश किए जाने के कुछ हफ्तों बाद दी गई है.

नए कानून के तहत, जम्मू-कश्मीर में 15 साल से रहने वाला कोई व्यक्ति या सात साल तक पढ़ाई करने वाला तथा केंद्र शासित प्रदेश में स्थित किसी शैक्षणिक संस्थान से कक्षा 10 और कक्षा 12 की परीक्षाओं में शामिल होने वाला व्यक्ति अधिवास प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर सकता है. इस प्रक्रिया के बाद वह केंद्र शासित प्रदेश का निवासी कहलाएगा.

ये भी पढ़ें- भारत-चीन के बीच ब्रिगेडियर स्तर की चर्चा बेनतीजा, लद्दाख में तनाव बरकरार; सैनिक आमने-सामने

कानून आतंकवाद के कारण विस्थापित हुए और जम्मू-कश्मीर में राहत एवं पुनर्वास आयुक्त (प्रवासी) के यहां पंजीकृत सभी लोगों को भी अधिवास अधिकार प्रदान करता है.

आतंकी समूह ने कहा कि हालांकि वह इस्लाम के सिद्धांतों का पालन करता है और किसी भी परिस्थिति में किसी भी जाति, धर्म या नस्ल के गैर-लड़ाकू/नागरिक को नुकसान नहीं पहुंचाता है, लेकिन वह आरएसएस-भाजपा की साजिशों के ढकोसले में नहीं आएगा.