close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

त्रिपुरा सरकार 'भारत बंद' के दिन अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारियों पर करेगी कार्रवाई

 त्रिपुरा की बीजेपी सरकार ने पहले ही अपने सभी कर्मचारियों से कह दिया था कि सरकारी कर्मचारी बंद के दिन अपने कार्यालयों में उपस्थित रहें, नहीं तो दंड भुगतने के लिए तैयार रहें.

त्रिपुरा सरकार 'भारत बंद' के दिन अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारियों पर करेगी कार्रवाई
फाइल फोटो

अगरतला: त्रिपुरा सरकार ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस द्वारा 10 सितंबर को बुलाए गए भारत बंद के दिन दफ्तर से गैर हाजिर रहने वाले सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ 10 सितंबर को कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया था. त्रिपुरा की बीजेपी सरकार ने पहले ही अपने सभी कर्मचारियों से कह दिया था कि सरकारी कर्मचारी बंद के दिन अपने कार्यालयों में उपस्थित रहें, नहीं तो दंड भुगतने के लिए तैयार रहें. राज्य सरकार ने शुक्रवार को एक कार्यालय ज्ञापन जारी किया, जिसमें कहा गया कि 10 सितंबर को अनुपस्थित रहने वाले सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. 

सामान्य प्रशासन विभाग (प्रशासनिक सुधार) के कार्यालय से अवर सचिव एम रेमा द्वारा जारी इस कार्यालय ज्ञापन में संबंधित विभागों से भारत बंद के दिन अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारियों के खिलाफ उपयुक्त कार्रवाई करने के लिए कहा गया है. आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार, 10 सितंबर को राज्य सरकार के दफ्तरों में 80 प्रतिशत से अधिक उपस्थिति दर्ज की गई थी. कांग्रेस की देशव्यापी हड़ताल का राज्य में मिला जुला असर दिखा था.

'भारत बंद' सफल रहा, जनता ने सड़कों पर उतर कर सरकार को आईना दिखाया: कांग्रेस
राहुल गांधी ने कहा कि केंद्र सरकार रोजगार देने में पूरी तरह विफल रही है.

भारत बंद को लेकर 10 सितंबर को कांग्रेस नेता ने कहा था कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक लोगों ने सड़क पर आकर केंद्र सरकार को आईना दिखाया. कांग्रेस की तरफ से कहा गया कि केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल की कीमत को लेकर कुछ नहीं कर रही है. जनता महंगी सरकार से त्रस्त हो चुकी है.
बता दें भारत बंद में 20 से ज्यादा विपक्षी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया था.