विधानसभा चुनाव के बाद बेटे रामाराव को सत्ता नहीं सौंपेंगे केसीआर : टीआरएस

लोकसभा में पार्टी के संसदीय दल के उपनेता बी विनोद कुमार ने यह भी कहा कि कार्यवाहक मुख्यमंत्री केसीआर विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता अपने बेटे और मंत्री के टी रामाराव को नहीं सौंपेंगे.

विधानसभा चुनाव के बाद बेटे रामाराव को सत्ता नहीं सौंपेंगे केसीआर : टीआरएस
फाइल फोटो

हैदराबाद: तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के एक शीर्ष नेता ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी प्रमुख के चंद्रशेखर राव (केसीआर) 2019 के लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे, लेकिन वह राज्य को नहीं ‘‘छोड़ेंगे.’’ लोकसभा में पार्टी के संसदीय दल के उपनेता बी विनोद कुमार ने यह भी कहा कि कार्यवाहक मुख्यमंत्री केसीआर विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता अपने बेटे और मंत्री के टी रामाराव को नहीं सौंपेंगे. बता दें कि तेलंगाना विधानसभा टीआरएस सरकार की सिफारिश पर उसके कार्यकाल पूरा होने से आठ महीने से भी अधिक समय पहले छह सितंबर को भंग कर दी गई थी, ताकि समयपूर्व चुनाव कराया जा सके.

 

TRS की रैली में गरजे चंद्रशेखर राव, कहा- दिल्ली की सत्ता के आगे नहीं झुकेंगे

 

चुनाव आयोग ने नहीं की है चुनावों की घोषणा
चुनाव आयोग ने अब तक चुनाव कार्यक्रम की घोषणा नहीं की है. करीमनगर लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले कुमार ने कहा, ‘‘केसीआर 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद भारतीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे.’’ जब उनसे गैर कांग्रेस, गैर बीजेपी संघीय मोर्चा संबंधी केसीआर के कदम पर कोई बात नहीं बन पाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘आप 2019 के चुनाव के बाद देखेंगे कि क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होगी.’’ 

 

तेलंगाना के CM राव ने फोन टैपिंग के आरोपों को खारिज किया

समयपूर्व चुनाव कराने की शुरुआत कांग्रेस ने की
विधानसभा चुनाव के बाद केसीआर द्वारा अपने बेटे रामाराव को सत्ता की कमान सौंपने संबंधी अटकलों पर कुमार ने कहा, ‘‘नहीं, बिल्कुल नहीं. केसीआर तेलंगाना से बेहद प्यार करते हैं, वह तेलंगाना नहीं छोड़ेंगे.’’ समय पूर्व चुनाव पर उन्होंने कहा, ‘‘इस देश में इंदिरा गांधी ने इसे शुरू किया. कांग्रेस ने इसे शुरू किया, बीजेपी ने इसे लागू किया, इस देश में कमोबेश सभी राजनीतिक दलों ने कभी न कभी समय पूर्व चुनाव की दिशा में कदम बढ़ाया.’’ 

(इनपुट भाषा से)