UN में ट्रंप ने इजरायली, फिलिस्तीनियों के लिए अलग-अलग देश का समर्थन किया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पद संभालने के बाद से पहली बार इस्राइल एवं फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष को सुलझाने के लिए दो देश बनाने के समाधान का समर्थन किया है.

UN में ट्रंप ने इजरायली, फिलिस्तीनियों के लिए अलग-अलग देश का समर्थन किया
ट्रंप ने बुधवार को नेतन्याहू के साथ तस्वीर खिंचवाते हुए कहा, “मुझे दो राष्ट्र बनाने वाला समाधान पसंद है.(फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पद संभालने के बाद से पहली बार इस्राइल एवं फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष को सुलझाने के लिए दो देश बनाने के समाधान का समर्थन किया है. संयुक्त राष्ट्र में इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से मुलाकात करने के बाद ट्रंप ने अपनी यह राय रखी. ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा कि उनका मानना है कि दो अलग-अलग राष्ट्र ही सबसे उचित समाधान है - एक इस्राइलियों के लिए और दूसरा फलस्तीनियों के लिए. इससे पहले उन्होंने इस विषय पर कभी भी खुलकर अपने विचार नहीं रखे थे और कहा था कि दोनों पक्षों में जो समझौता होगा वह उसे समर्थन देंगे.  इस सहमति में एक ही राष्ट्र का प्रस्ताव भी शामिल था जिससे कि फलस्तीन इस्राइल का हिस्सा बन सकता है.

ट्रंप ने बुधवार को नेतन्याहू के साथ तस्वीर खिंचवाते हुए कहा, “मुझे दो राष्ट्र बनाने वाला समाधान पसंद है. ” उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यही सबसे सही रहेगा.  मेरा ऐसा मानना है.  अब, आपका कुछ और मानना भी हो सकता है. मेरा विचार है कि दो देश बनाने वाला हल सबसे बेहतर रहेगा.” बाद में उन्होंने एक समाचार सम्मेलन में कहा कि दो देश बनाने वाले समाधान तक पहुंचाना ‘‘ज्यादा मुश्किल होगा क्योंकि यह रियल एस्टेट से जुड़ा समझौता है.”

लेकिन अंतत: यही सही रहेगा क्योंकि इससे लोगों के पास उनका अपना शासन होगा. ट्रंप ने कहा कि अगर इस्राइल और फलस्तीन एक राष्ट्र वाला हल भी निकालते हैं तब भी वह उसका समर्थन करेंगे.