close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

‘दबंगों का श्मशान’ है ट्वीटर, अब अपने आखिरी दौर में पहुंच गया: चेतन भगत

बेस्टसेलर किताबों के लेखक चेतन भगत को लगता है कि सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर ‘दबंगों का श्मशान’ है। सोशल मीडिया में अक्सर चेतन भगत पर निशाना साधा जाता है।

‘दबंगों का श्मशान’ है ट्वीटर, अब अपने आखिरी दौर में पहुंच गया: चेतन भगत
फाइल फोटो

नई दिल्ली : बेस्टसेलर किताबों के लेखक चेतन भगत को लगता है कि सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर ‘दबंगों का श्मशान’ है। सोशल मीडिया में अक्सर चेतन भगत पर निशाना साधा जाता है।

उन्होंने सेलिब्रिटीज के खिलाफ लामबंद गिरोह ट्विटराटी पर हमला बोलते हुए कहा कि उनकी कार्रवाई ‘भीड़ से उपजी मानसिकता’ को प्रदर्शित करती हैं। भगत ने कहा कि यह दबंगों का श्मशान बन गया है। टिप्पणियों के कारण ट्विटर एक नकारात्मक चीज हो गई है। सेलिब्रिटी लोगों ने इस सोशल मंच पर ज्यादा बातचीत करना बंद कर दिया है। चेतन के अनुसार अब सेलिब्रिटी’ज ‘नकारात्मकता’ से बचने के लिए बहुत तेजी से इंस्टाग्राम जैसे अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म की ओर बढ़ रहे हैं। चेतन का अनुमान है कि ट्विटर अब अपने आखिरी दौर में पहुंच गया है।

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि अब ट्विटर समाप्त होने वाला है और अगले पांच साल में यह ऑरकुट और माईस्पेस की तरह ही पूरी तरह से बंद हो जाएगा, क्योंकि अब लोग इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया की ओर जा रहे हैं। ट्विटर पर करीब 90 लाख फालोवरों का आंकड़ा छूने वाले चेतन ने कहा कि यहां केवल लेखक और मीडियाकर्मी ही हैं। सभी अभिनेता और सेलिब्रिटी पहले ही जा चुके हैं और अब वह इंस्टाग्राम पर सक्रिय हैं। हालांकि भगत अपनी किताबों के प्रोत्साहन और अपने स्वयं के प्रचार के लिए ट्विटर पर सक्रिय बने रहेंगे।

उन्होंने कहा कि जब मेरी किताब छप जाएगी, तब जान-बूझकर मैं ट्विटर पर आउंगा। हालांकि मुझे पता है कि एक सुरंग जैसा माध्यम है और यह केवल नकारात्मक ही होगा। जब लोग नकारात्मक लिखने और मजाक अथवा ध्यान खींचने के लिए मेरा नाम इस्तेमाल करते हैं, तब मैं भी अपने प्रचार के लिए इस मंच का इस्तेमाल करूंगा।