उबर रेप कांड : पीड़िता और उबर के बीच हुआ समझौता

उबर कंपनी के एक चालक ने महिला का बलात्कार किया था और उसके बाद उबर के शीर्ष कार्यकारियों के खिलाफ महिला ने अनुचित तरीके से उसका चिकित्सकीय रिपोर्ट हासिल करने को लेकर मुकदमा दायर किया था. 

उबर रेप कांड : पीड़िता और उबर के बीच हुआ समझौता
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली : तीन साल पहले उबर की टैक्सी में हुए रेप कांड में पीड़िता और उबर कंपनी के बीच समझौता हो गया है. टैक्सी सेवाएं देने वाली कंपनी उबर टैक्नोलॉजीज और बलात्कार की पीड़ित एक भारतीय महिला अमेरिका की अदालत में चल रहे मुकदमे को आपस में सुलझाने पर सहमत हो गए हैं. कंपनी के एक चालक ने महिला का बलात्कार किया था और उसके बाद उबर के शीर्ष कार्यकारियों के खिलाफ महिला ने अनुचित तरीके से उसका चिकित्सकीय रिपोर्ट हासिल करने को लेकर मुकदमा दायर किया था. उबर ने कहा कि सभी पक्षों के बीच समझौते की सहमति बन गयी है और जनवरी में यह मामला खत्म हो जाएगा. हालांकि समझौते की शर्तों का खुलासा नहीं किया गया है.

सरकार शुरू कर ही है बाइक टैक्सी की सुविधा, ओला-उबर की होगी छुट्टी

महिला का उबर के एक चालक ने 2014 में दिल्ली में बलात्कार किया था. महिला ने इस बाबत मामला दायर किया था पर बाद में स्वेच्छा से उसने इसे वापस ले लिया था. इस साल जून में महिला ने कंपनी और उसके निष्काषित मुख्य कार्यकारी अधिकारी ट्राविस कलानिक के खिलाफ चिकित्सकीय रिकॉर्ड अनुचित तरीके से हासिल करने और गलत कहानियां बनाने को लेकर मुकदमा दायर किया था. उल्लेखनीय है कि उबर इस साल की शुरुआत में कुप्रबंधन तथा कार्यस्थल पर शोषण समेत कई मुद्दों में उलझी थी. उसके एक पूर्व कर्मी ने ब्लॉग लिखकर कंपनी में यौन शोषण एवं यौनिक भेदभाव का आरोप लगाया था.

(इनपुट भाषा से)