close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेरे पार्टी के विधायक कहां रखने हैं, यह मेरा अधिकार हैं, कोई सवाल नहीं पूछ सकता: उद्धव ठाकरे

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने संबोधन में कहा कि बाला साहेब को वचन दिया है, मैं शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाऊंगा.

मेरे पार्टी के विधायक कहां रखने हैं, यह मेरा अधिकार हैं, कोई सवाल नहीं पूछ सकता: उद्धव ठाकरे
देवेंद्र फड़णवीस के इस्तीफा देने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया.

मुंबई: महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) के इस्तीफा देने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. ठाकरे ने अपने संबोधन में साफ कहा कि शिवसेना को अपना मुख्यमंत्री बनाने के लिए फड़णवीस और बीजेपी अध्यक्ष शाह के आशीर्वाद की जरूरत नहीं है. शिवसेना प्रमुख ने कहा कि मुझे दुख है कि मेरी पार्टी पर फडणवीस ने गलत आरोप लगाए. शिवसेना की ओर से कभी भी पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं की गई. 

शिवसेना चीफ ठाकरे ने कहा, "कुछ समय पहले मैंने कार्यवाहक सीएम देवेंद्र फडणवीस की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुनी. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपने कार्य गिनाए. विकास का काम उन्होंने अकेले नहीं किया, हम साथ थे. दुख है गलत आरोप लगाया गया. लोकसभा चुनाव के वक्त अमित शाह और फड़णवीस मेरे पास आए थे, मैं दिल्ली नहीं गया. चर्चा शुरू हुई उपमुख्यमंत्री पद की बात हुई तो मैंने कहा थ उपमुख्यमंत्री पद लेने के लिए लाचार नही हूं."  

उन्होंने आगे कहा, "बाला साहेब को वचन दिया है मैं शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाऊंगा. शिवसेना का सीएम बनाने के लिए मुझे फड़णवीस और अमित शाह के आशीर्वाद की जरूरत नहीं. इनके सच झूठ के सर्टिफ़िकेट की जरूरत नहीं.' 

ठाकरे ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा, "पद का समान बटवारा यह तय था. सीएम पद भी उसमें आता है. मीठा बोलकर हमें खत्म करना चाहते थे, लेकिन हमने इनकी राह रोकी है. हां, मैंने बातचीत रोकी है क्योंकि फडणवीस ने परिणामों के बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने जो बाते कहीं, उससे मुझे दुख हुआ. 2014 में हमें केंद्र ने भारी उद्योग मंत्री दिया, 2019 में भी यही दिया. अमित भाई से कहां थे. मैं बीजेपी को शत्रु नहीं मानता लेकिन झुठ ना बोलें. नोटबंदी, अच्छे दिन बोलकर कौन झूठ बोल रहा है."  

ठाकरे ने फडणवीस के बयानबाजी वाले आरोप के जवाब में कहा, "मोदी जी के ऊपर मैने टीका-टिप्पणी नहीं की. मोदी जी मुझे दो बार छोटा भाई बोले थे. फडणवीस बोलते हैं स्ट्राइक रेट ज्यादा है सीट जीतने का, लोकसभा परिणाम को अगर दिखे तो उस लिहाज से विधानसभा में 220 सीटे मिलनी चाहिए थीं, ऐसा नही हुआ और सीएम स्ट्राइक रेट की बात करते हैं. दुष्यंत चौटाला ने क्या बोला, यह क्लिप देखिये जिसने पीएम मोदी का विरोध किया था." 

ठाकरे ने कहा, "संघ के प्रति मुझे आदर है, संघ के लिए मन में इज्जत है. हिंदुत्व संगठन है. संघ तय करे कि झुठ बोलना किसका हिंदूत्व है. कार्यवाहक सीएम फडणवीस कहते हैं कि हमारी सरकार आएगी. मेरे पास उनसे बात करने के लिए समय था, बात नही की, क्योंकि हम झूठे लोगों से बात नहीं करते. महाराष्ट्र की जनता ने ठाकरे परिवार और शिवसेना पर जितना विश्वास किया है, उतना ही अविश्वास वो अमित शाह और उनकी पार्टी पर करती है. राम मंदिर के फैसले को कोई श्रेय ना ले. ये फैसला कोर्ट केस है, किसी पार्टी का नहीं."