उद्धव ठाकरे 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, विधानसभा में बहुमत परीक्षण आज

 शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) 28 नवंबर यानी गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. शपथ ग्रहण का आयोजन मुंबई के शिवाजी पार्क में आयोजित होगा. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात (Balasaheb Thorat) ने पत्रकारों को यह जानकारी दी. शपथ ग्रहण का कार्यक्रम शाम 5:30 बजे होगा. 

उद्धव ठाकरे 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, विधानसभा में बहुमत परीक्षण आज
महा विकास अघाड़ी गठबंधन के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद उद्धव ठाकरे ने पिता और शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे को श्रद्धांजलि दी.

मुंबई: शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) 28 नवंबर यानी गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. शपथ ग्रहण का आयोजन मुंबई के शिवाजी पार्क में आयोजित होगा. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात (Balasaheb Thorat) ने पत्रकारों को यह जानकारी दी. शपथ ग्रहण का कार्यक्रम शाम 5:30 बजे होगा. शिवसेना (Shiv Sena) प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को भी आमंत्रण भेजा जाएगा.

प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलंबदास ने बुलाया विधानसभा सत्र
प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलंबदास ने बुधवार (27 नवंबर) को महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. वे सभी निर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाएंगे. साथ ही शाम पांच बजे तक बहुमत परीक्षण कराना होगा. देखना दिलचस्प होगा कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस को मिलाकर बने महा विकास अघाड़ी गठबंधन के पक्ष में कितने वोट पड़ते हैं. बहुमत परीक्षण की पूरी प्रक्रिया की वीडियो रिकॉर्डिंग होगी. ऐसा सुप्रीम कोर्ट का आदेश है.

शिवसेना (Shiv Sena), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस को मिलाकर बनाए गए महा विकास अघाड़ी गठबंधन ने उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को विधायक दल का नेता चुना. विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सीधे अपने आवास मातोश्री पर पिता और शिवसेना (Shiv Sena) संस्थापक बालासाहेब ठाकरे को श्रद्धांजलि देने पहुंचे. 

इससे पहले मुंबई के ट्राइडेंट होटल में महा विकास अघाड़ी गठबंधन का नेता चुने जाने के बाद उद्धव ने वहां मौजूद शरद पवार का पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया. साथ ही यह भी कहा कि वह बड़े भाई (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) से मिलने दिल्ली जाएंगे. इसके बाद 'महा विकास अगाड़ी' के विधायकों और नेताओं ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को पत्र सौंपकर शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को अपना नेता घोषित किया.

ये भी देखें-:

उद्धव ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि उन्हें जब जरूरत नहीं थी तब उन्होंने शिवसेना (Shiv Sena) को अकेले छोड़ दिया था. साथ ही देवेंद्र फडणवीस की ओर से लगाए गए आरोप का जवाब देते हुए कहा कि हम कांग्रेस या सोनिया गांधी के सामने झुके नहीं हैं, हमने उनके साथ गले लगाया है. शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए बगैर कहा कि वह दिल्ली जाकर बड़े भाई से मिलेंगे.

उद्धव ने कहा कि हम फिर से महाराज छत्रपति महाराज के सपनों का महाराष्ट्र फिर से तैयार करेंगे. उन्होंने कहा कि मैं आपकी ओर से दी गई जिम्मेदारी को स्वीकर करता हूं. मैं इस पद पर अकेले नहीं हूं, आप सभी मुख्यमंत्री हैं. ये असली लोकतंत्र है. हम सब मिलकर राज्य के किसानों के आंसू पोछेंगे.

उद्धव ने कहा कि मैं देवेंद्र फडणवीस के सारे सवालों का जवाब देने के लिए तैयार हूं, मैं किसी बात नहीं डरता. झूठ हिंदुत्व का हिस्सा नहीं है. जरूरत पड़ने पर आप हमें गले लगाओ और जब जरूरत न हो आप हमें छोड़ दो. आपकी यही नीति रही है.

उन्होंने कहा कि मैंने राज्य का नेतृत्व करने का कभी सपना नहीं देखा था. मैं सोनिया गांधी और अन्य लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं. हम एक दूसरे पर विश्वास रखकर देश को एक नई दिशा दे रहे हैं.