उद्धव ठाकरे ने सामना के संपादक पद से दिया इस्तीफा, राउत संभालेंगे कमान

  अब सामना कमान शिवसेना के विधायक और फयर ब्रांड नेता संजय राउत (Sanjay Raut) के हाथ में सौंप दी गई है.  

उद्धव ठाकरे ने सामना के संपादक पद से दिया इस्तीफा, राउत संभालेंगे कमान
फाइल फोटो

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुंख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सामना (Saamana) के संपादक पद से इस्तीफा दे दिया है. अब इसकी कमान शिवसेना (Shiv Sena) के विधायक और फयर ब्रांड नेता संजय राउत (Sanjay Raut) के हाथ में सौंप दी गई है. बता दें कि अपने संपादकीय को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाला सामना अखबार शिवसेना का मुखपत्र है. 

गुरुवार को एक बार फिर शिवसेना ने सामना संपादकीय के जरिए बीजेपी पर निशाना साधा है. सामन ने लिखा- ''शिवसेना का मुख्यमंत्री और उसमें भी उद्धव ठाकरे इस पद पर विराजमान हो रहे हैं, ये महाराष्ट्र का भाग्य है. यह समारोह मराठी माणुस को धन्यता महसूस करानेवाला है. जो श्री उद्धव ठाकरे को पहचानते हैं, उनके मन में ये विश्वास है कि जब वे कोई जिम्मेदारी स्वीकार करते हैं तो उसे पूरी शिद्दत से निभाते हैं.

लाइव टीवी देखें

उद्धव ठाकरे की विशेषता है कि बाहर तूफान होने के बावजूद वे शांत रहते हैं और शांत होने पर तूफान खड़ा कर देते हैं. देश के बड़े-बड़े नेता दिल्लीश्वरों के आगे घुटने टेक रहे हैं, ऐसे में उद्धव ठाकरे किसी भी दबाव के आगे नहीं झुके. स्वाभिमान को गिरवी नहीं रखा और जिन लोगों ने बालासाहेब की साक्षी में ‘झूठ’ बोलने का प्रयास किया, उस ढोंग से हाथ नहीं मिलाया. ‘कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस और शिवसेना की सरकार तीन पैरों पर खड़ी है और ये नहीं टिकेगी’, ऐसा शाप देवेंद्र फडणवीस ने शुभ मुहूर्त पर दिया है. लेकिन ये उनका भ्रम है. 

ये सरकार राष्ट्रीय मुद्दों पर नहीं बल्कि महाराष्ट्र और विकास के मुद्दों पर बनी है तथा राज्य के विकास के लिए तीनों पार्टियों में कोई मतभेद नहीं है. शरद पवार जैसे अनुभवी मार्गदर्शक हमारे साथ हैं. तीनों पार्टियों में प्रशासनिक जानकारी रखनेवाले लोगों की फौज है. मुख्य बात ये है कि किसी के मन में एक-दूसरे के प्रति मैल नहीं है. सरकार अपना काम करे और गत चार दिनों में जो कुछ हुआ, उस कीचड़ में पत्थर न फेंकते हुए विरोधी दल सकारात्मक नीति अपनाए. लोकतंत्र के यही संकेत हैं. दहशत पैदा करके सरकार बनाने और गिराने का खेल देश में गत 5 साल चला. महाराष्ट्र इन सब पर भारी पड़ गया.

मराठी माणुस आलसी नहीं है और वह व्यर्थ अपेक्षा भी नहीं रखता. हालांकि उसे झूठ और ढोंग से चिढ़ है. उसी चिढ़ से ही आज के सरकार की अभिमान की ज्वाला का जन्म हुआ है. महाराष्ट्र धर्म व्यापक है. इसी महाराष्ट्र धर्म से शिवराय का स्वराज्य अवतरित हुआ. वो स्वराज्य सबका था. उद्धव ठाकरे की नई सरकार उसी महाराष्ट्र धर्म का पालन करेगी. महाराष्ट्र धर्म की नई सरकार आई है. जो कहते थे ‘देखते हैं वै'से आती है’, वे भी महाराष्ट्र धर्म का मर्म जांच लें. उद्धव की सरकार शुरू हो रही है. उन्हें शुभकामनाएं!!"