जिंदा भतीजे को मरा साबित कर पैसे हड़पना चाहता था चाचा, 1 महिला सहित 6 गिरफ्तार

गिरफ्तार किए गए लोगों में से दो लोग पेशे से डॉक्टर भी है. बताया जा रहा है कि ये डॉक्टर्स फर्जी डेथ सर्टीफिकेट बनाने का काम करते थे.

जिंदा भतीजे को मरा साबित कर पैसे हड़पना चाहता था चाचा, 1 महिला सहित 6 गिरफ्तार
पुलिस ने भी तेजी से जांच करते हुए छह लोगों के गिरोह को धर दबोचा. (फाइल फोटो)

आतिश भोसिर, मुंबईः मुंबई के पास डोंबिवली में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसकी कल्पना सिर्फ फिल्मो में ही कि जा सकती है. जिसके नाम पर लाखो रुपये का बीमा है उसका फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाया गया और लाखों रुपये सफाचट किए गए. बीमा कंपनीयों को करोड़ो का चूना लगाने वाले छह लोगो को डोंबिवली के क्राईम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है. आपको बता दें कि गिरफ्तार किए गए लोगों में से दो लोग पेशे से डॉक्टर भी है. बताया जा रहा है कि गिरफ्तार किए गए ये डॉक्टर्स फर्जी डेथ सर्टीफिकेट दिया करते थे. पुलिस का मानना है कि इतने बड़े अपराध के पीछे सिर्फ यही लोग नहीं हो सकते, इसलिए पकड़े गए लोगो से लगातार पुछताछ जारी है. 

एसटीएफ ने कुख्यात बावरिया गिरोह के दो डकैतों को किया गिरफ्तार

डोंबिवली के पास एक चाचा ने अपने सही सलामत भतीजे  के जीवन बिमा का पैसा निकालने की कोशिश की. जिसके लिए उन्होनें उसका फर्जी डेथ सर्टीफिकेट बनवाया. चंद्रशेखर शिंदे ने सिर्फ भतीजे का ही नही बल्की उनकी पत्नी बेटा, बहू सभी के नाम के डेथ सर्टीफिकेट बनाए थे और सभी के बीमा के पैसे लेने का क्लेम किया गया था. कुल मिलाकर 81 लाख का बीमा था. चंद्रशेखर और उसके साथियों के द्वारा 55 लाख रुपये निकालने की कोशिश की गई. लेकीन बीमा के पैसे निकालने का मेसेज आते ही चंद्रकांत का भतीजा व्यंकटेश शिंदे पुलीस स्टेशन पहुंचा. 

जानें, जेल से अपनी अदालत चलाने वाला बाहुबली अतीक अहमद की कहानी

डोंबिवली क्राईम ब्रान्च के सहायक पोलीस इन्सपेक्टर संतोष शेवाडे (कल्याण क्राईम ब्रांच युनिट 3) ने जानकारी देते हुए बताया कि इन लोगो ने अब तक 13 लोगो को फर्जी डेथ सर्टीफिकेट निकाला है. उन्होंने बताया कि इन सभी लोगों के बीमा के पैसे लूटने की पूरी योजना इन लोगो ने बनाई थी. मुंब्रा इलाके में प्रैक्टिस करने वाले दो डॉक्टर और समशान भूमी में काम करने वाले लोग है. पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी चंद्रशेखर है जिसने लूट की पुरी प्लानिंग बनाई थी. उसके साथ समशान भूमी कर्मचारी तेजपास मेहरोल, डॉक्टर इमरान सिध्दीकी, डॉ. अब्दुल सिद्दीकी, चंद्रशेखर का बेटा नारायण और बहू लक्ष्मी को पुलीस ने गिरफ्तार कर लिया है. 

बिहारः दामाद ने सास, ससुर की चाकू गोदकर की हत्या, पत्नी को किया घायल

पुलिस ने बताया की बिना बिमा एजेंट के यह करना संभव नहीं है. फिलहाल डोंबिवली क्राईम ब्रान्च ने गिरफ्तार सभी लोगों से पुछताछ शुरू कर दी है. आनेवाले दिनों में इस गिरोह के अन्य साथी भी पुलिस के हत्थे चढेंगे. फिलहाल पुलिस गिरोह के अन्य साथियों की तलाश में जुटी है और पता करने की कोशिश कर रही है कि आखिर ये लोग इस पूरी वारदात को कैसे अंजाम दे रहे थे और कितने और लोग इसमें शामिल हैं.