close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूनेस्को ने भारत का माना लोहा, कहा- इस काम के लिए आप बधाई के पात्र हैं

 यूनेस्को के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि भारत “सराहनीय कार्य” कर रहा है. 

यूनेस्को ने भारत का माना लोहा, कहा- इस काम के लिए आप बधाई के पात्र हैं
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: यूनेस्को के एक शीर्ष अधिकारी ने सोमवार को कहा कि दिव्यांग लोगों का जीवन आसान बनाने और उनको सुगम पहुंच उपलब्ध कराने की दिशा में भारत “सराहनीय कार्य” कर रहा है लेकिन इस परिदृश्य को सुधारने के लिए, खासकर उन्हें शिक्षा एवं कौशल देने के संबंध में अब भी “बहुत कुछ और करने की जरूरत है. ’’ यहां यूनेस्को के भारत स्थित कार्यालय में संचार एवं सूचना के लिए सलाहकार अल-अमीन यूसुफ ने अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर ये बातें कहीं. संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वीकृत इस दिवस का लक्ष्य ऐसे लोगों के प्रति लोगों की जागरुकता, समझ एवं स्वीकार्यता बढ़ाने और उनकी उपलब्धियां एवं योगदान का जश्न मनाना है.

यूसुफ ने कहा, “विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्रों में उनके लिए सुविधाओं को सुधारने और उनके जीवन को बेहतर बनाने के लिए उठाए गए कदमों पर, चाहे वे राजनीतिक कदम हों, वैधानिक हों या फिर सामाजिक कदम हों, हम भारत को बधाई देते हैं.  लेकिन, भारत में और दुनिया भर में और बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है. ” “कोई भी पीछे न छूटे” का संकल्प करने वाले ‘सतत विकास के लिए 2030 के एजेंडा’ के तहत इस साल की थीम ‘दिव्यांगों को समावेशी, समतामुलक और सतत विकास के लिए सशक्त बनाना’ है.  

दिव्यांग महिलाओं को बच्चों की देखभाल के लिए मिलेगा दोगुना भत्ता
केन्द्र सरकार ने दिव्यांग महिला कर्मचारियों को मिलने वाला शिशु देखभाल भत्ता बढ़ाकर दोगुना कर दिया था. इसे अब 1500 रुपये से बढ़ाकर 3000 रुपये कर दिया गया था. कार्मिक एवं प्रशिक्षण मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के मुताबिक इन महिलाओं को बच्चे के जन्म से दो वर्ष तक की आयु पूरी होने तक प्रतिमाह 3000 रुपये का भत्ता दिया मिलेगा. हालांकि यह भत्ता दो बच्चों के लिये ही मिलता है. विभाग ने यह आदेश केन्द्रीय कर्मचारियों के लिये सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुपालन में जारी किया गया था. 

इनपुट भाषा से भी