B’day Special: नितिन गडकरी के निजी जीवन से लेकर सियासी सफर तक, जानें 10 बड़ी बातें

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के निजी जीवन से सियासी सफर तक पर डालते हैं एक नजर.

B’day Special: नितिन गडकरी के निजी जीवन से लेकर सियासी सफर तक, जानें 10 बड़ी बातें
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:  केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) का नाम मोदी सरकार के सबसे बेहतरीन काम करने वाले मंत्रियों की लिस्ट में सबसे ऊपर आता है. संघ के करीबी माने जाने वाले नितिन गडकरी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत 1976 में नागपुर यूनिवर्सिटी में भाजपा की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से की थी. महज 23 साल की उम्र में ही भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष बनने वाले नितिन गडकरी के निजी जीवन से सियासी सफर तक पर डालते हैं एक नजर, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़ी ये 10 बड़ी बातें-

1. नितिन गडकरी का जन्म नागपुर जिले के एक मध्यम वर्गीय परिवार में 27 मई 1957 को हुआ था. 

2. यह बेहद कम उम्र में ही भारतीय युवा मोर्चा और भाजपा की छात्र शाखा एबीवीपी के लिए काम करने लगे थे.

ये भी पढें: रेलवे, फ्लाइट चालू होने के बाद अब DMRC ने कमर कसी, शुरू होने जा रही है मेट्रो!

3. नितिन का कंचन गडकरी से विवाह हुआ था, दोनों के तीन बच्चे निखिल, सारंग और केतकी हैं.

4. नितिन गडकरी महाराष्ट्र सरकार में 1995-99 तक लोक निर्माण मंत्री का भी पदभार संभाल चुके हैं, इतना ही नहीं वह महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

5. नितिन गडकरी की एक छवि इनोवेटिव मंत्री के तौर पर भी है, क्योंकि वॉटर मैनेजमेंट, सोलर एनर्जी प्रोजेक्‍ट या फिर एग्रीकल्चर में कुछ नया इनोवेशन करते रहे हैं.

6. नितिन गडकरी 1989 में पहली बार विधान परिषद के लिए चुने गए.

7. नितिन गडकरी महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता भी रहे हैं.

8. इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में महारत रखने वाले नितिन गडकरी महाराष्ट्र में बेहतरीन सड़कें बनाने के लिए भी जाने जाते हैं. मोदी सरकार में भी सड़क परिवहन मंत्रालय की कमान संभालने के बाद उन्होंने कई बड़े प्रोजेक्ट्स को मुकाम दिलाया.

9. नितिन गडकरी ने कानून व बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई भी की है.

10. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इन दिनों अपने महत्वपूर्ण चार धाम प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं. यह प्रोजेक्ट 2020 के अंत तक पूरा होगा जाएगा. जिससे भक्तों के बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री धाम जाने का मार्ग आसान हो जाएगा.