close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एके गोयल को NGT के अध्यक्ष पद से हटाया जाए: रामदास अठावले

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश को छह जुलाई को पांच वर्षों के लिए एनजीटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण राज्य मंत्री अठावले ने कहा कि वह इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष उठाएंगे.

एके गोयल को NGT के अध्यक्ष पद से हटाया जाए: रामदास अठावले
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के अध्यक्ष पद से न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गोयल को हटाने की मांग की है. उनका आरोप है कि सुप्रीम कोर्टकी जिस पीठ का हिस्सा गोयल थे, उस पीठ ने अनुसूचित जाति/जनजाति अधिनियम के मामले में ‘गलत फैसला’ दिया था. रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अठावले ने कहा, ‘‘ गोयल को एनजीटी के अध्यक्ष पद से हटाया जाना चाहिए. दलित समुदाय इस नियुक्ति से खुश नहीं है क्योंकि गोयल उस पीठ का हिस्सा थे, जिसने गलत फैसला दिया था.” 

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश को छह जुलाई को पांच वर्षों के लिए एनजीटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण राज्य मंत्री अठावले ने कहा कि वह इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष उठाएंगे. 

न्यायमूर्ति ए के गोयल एवं न्यायमूर्ति यू यू ललित के नेतृत्व वाली उच्चतम न्यायालय की एक पीठ ने 20 मार्च को अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम के प्रावधानों को ‘हल्का’ करते हुए यह फैसला दिया था कि सरकारी कर्मचारियों एवं आम लोगों की गिरफ्तारी तत्काल न करके जांच के बाद ही की जानी चाहिए. अजा..अजजा कानून के तहत किसी भी लोक सेवक को गिरफ्तार करने से पहले, शुरूआती जांच उपाधीक्षक रैंक के अधिकारी द्वारा की जानी चाहिए. 

दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले लोगों और कई राजनीतिक पार्टियों ने इस फैसले का विरोध करते हुए पूरे देश में प्रदर्शन किया था.