close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत, अमेरिका के तटरक्षकों ने चेन्नई तट पर संयुक्त अभ्यास में हिस्सा लिया

शुक्रवार सुबह सात बजे अभ्यास शुरू होने के चार घंटे बाद ‘स्ट्रैटन’ पहली बार भारत में चेन्नई बंदरगाह पहुंचा.

भारत, अमेरिका के तटरक्षकों ने चेन्नई तट पर संयुक्त अभ्यास में हिस्सा लिया

चेन्नई: भारत और अमेरिका के तटरक्षकों ने दोनों देशों के समुद्री बलों के बीच तालमेल बढ़ाने के उद्देश्य से शुक्रवार को चेन्नई तट पर संयुक्त अभ्यास में हिस्सा लिया. शहर तट से करीब पांच समुद्री मील की दूरी पर बंगाल की खाड़ी में दोनों देशों के तटरक्षक जहाजों और विमानों ने इस अभ्यास में हिस्सा लिया.

शुक्रवार सुबह सात बजे अभ्यास शुरू होने के चार घंटे बाद ‘स्ट्रैटन’ पहली बार भारत में चेन्नई बंदरगाह पहुंचा. अमेरिकन कोस्ट गार्ड के शिप का पारंपरिक स्वागत सिंधी मॉडल हायर सेकेंडरी स्कूल के 60 बच्चों ने किया. इस मौके पर शिप के स्वागत में मार्शल म्यूजिक बजाया गया. इस मौके पर डेप्युटी इंस्पेक्टर जनरल संजीव धवन अन्य भारतीय और अमेरिकी अफसरों के साथ मौजूद थे.

भारत की ओर से ‘आईसीजी शौर्य’ और ‘आईसीजी अभीक’ जहाजों और चेतक हेलीकॉप्टर ने अभ्यास में हिस्सा लिया. यह अभ्यास जलदस्यु विरोधी, तलाश एवं बचाव तथा हमलों से मुकाबले पर केंद्रित था. अधिकारी ने बताया कि 127 मीटर लंबे और 43 मीटर ऊंचे अमेरिकी जहाज ‘स्ट्रैटॉन’ और जहाज से जुड़े एक विमान ने इस अभ्यास में हिस्सा लिया.

अमेरिकी तटरक्षक कैप्टन बॉब लिटल ने कहा कि अभ्यास का मुख्य केंद्र कानून प्रवर्तन पर था. उन्होंने कहा, ‘‘समुद्र में कुछ भी गैरकानूनी गतिविधि जैसे कि अवैध रूप से मछली पकड़ने, अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद, नशीले पदार्थ के खिलाफ कार्रवाई को लेकर हम ‘आईसीजी’ के साथ परस्पर हितों का आदान-प्रदान करते हैं.’

उन्होंने कहा कि यह अभ्यास दोनों देशों के बीच सामरिक संबंधों को बढ़ाने का एक अवसर था क्योंकि अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत को एक अहम सामरिक सहयोगी मानता है. अधिकारी ने बताया, ‘‘समुद्री अभ्यास शुक्रवार को सम्पन्न हो गया. अमेरिका और भारतीय अधिकारियों के बीच बातचीत समेत कई गतिविधियों में हिस्सा लेने के बाद ‘यूएससीजी जहाज’ 27 अगस्त को भारत से रवाना होगा.’