CAA के खिलाफ प्रदर्शन में तोड़ी थी सरकारी संपत्ति, अब भरने पड़ेंगे 21 लाख रुपए

लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि एडिशनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के द्वारा लखनऊ में 13 लोगों को सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की भरपाई के लिए नोटिस जारी किया गया है. 

CAA के खिलाफ प्रदर्शन में तोड़ी थी सरकारी संपत्ति, अब भरने पड़ेंगे 21 लाख रुपए
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में लखनऊ (Lucknow) जिला प्रशासन ने शुक्रवार को 13 लोगों को 'नागरिकता संशोधन कानून' के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने को लेकर नोटिस दिया. इन 13 लोगों से सरकारी संपत्ति के नुकसान की भरपाई करने के लिए कुल 21 लाख रुपए की वसूली की जाएगी.

लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि एडिशनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के द्वारा लखनऊ में 13 लोगों को सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की भरपाई के लिए नोटिस जारी किया गया है. इन सभी 13 लोगों को अगले 30 दिन के अंदर 21 लाख रुपए जमा करने होंगे. इसके अलावा पूरे उत्तर प्रदेश में कुल साढ़े 4 करोड़ रुपए की सरकारी संपत्ति को दंगाइयों ने 'नागरिकता संशोधन कानून' के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के दौरान नुकसान पहुंचाया था. ये 13 लोगों की लिस्ट दंगाइयों से नुकसान भरपाई करने के लिए पहली लिस्ट है.

दरअसल, बीते 19 दिसंबर 2019 को लखनऊ के हसनगंज, खदरा, परिवर्तन चौक और अलग-अलग इलाकों में 'नागरिकता संशोधन कानून' के खिलाफ उग्र प्रदर्शन हुए थे, जिसमें दंगाइयों ने पुलिस पर पत्थर भी फेंके थे और बड़े पैमाने पर सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान को पहुंचाया था.

गौरतलब है कि तब उत्तर प्रदेश पुलिस ने जानकारी दी थी कि सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले दंगाइयों की सीसीटीवी की मदद से पहचान की जाएगी.

ये वीडियो भी देखें: