105 साल की राबिया अहमद ने दी कोरोना को मात, परिवार बोला इससे बड़ी ईदी कुछ नहीं

राबिया की हालत कितनी नाजुक थी अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वो अपने किसी रिश्तेदार तक को नहीं पहचान पा रही थी. 

105 साल की राबिया अहमद ने दी कोरोना को मात, परिवार बोला इससे बड़ी ईदी कुछ नहीं
फाइल फोटो

गौतमबुद्ध नगर: दिल्ली से सटे नोएडा में 105 साल की बुजुर्ग ने कोरोना को मात दे दी है, शारदा अस्पताल में भर्ती विदेशी मूल की राबिया अहमद को आज डिस्चार्ज किया गया. बकरीद से पहले घर लौटी राबिया अहमद का परिवार भी बेहद खुश है और इसे अपनी सबसे बड़ी ईदी मान रहा है.

शारदा अस्पताल की ओर से बताया गया कि अफगानिस्तान की रहने वाली 105 साल की राबिया अहमद को 16 जुलाई को एडमिट किया गया था. जब उन्हें अस्पताल लाया गया तब उनको बुखार, सांस लेने में तकलीफ के अलावा निमोनिया की शिकायत थी. साथ ही बुजुर्ग अलजाइमर से भी ग्रसित थीं.

ये भी पढ़ें: UP ने हासिल की प्रतिदिन 1.15 लाख कोविड ​टेस्टिंग की क्षमता, CM योगी ने जताई संतुष्टि

राबिया की हालत कितनी नाजुक थी अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वो अपने किसी रिश्तेदार तक को नहीं पहचान पा रही थी. जांच में पेसाब में इन्फेकशन और ECG भी नार्मल नहीं था. एक्यूट रिसपाइरेटरी ड्रिसट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) की चपेट में आने के बाद राबिया अहमद को तत्काल वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया और 7 दिन बाद उनकी हालत में सुधार आया. इस दौरान उन्हें हाई लेवल प्रोटीन युक्त डाइट दी गई.

30 जुलाई को राबिया अहमद की कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें आज अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया. उधर, राबिया के परिवार वालों में खुशी की लहर है, परिवार वालों का कहना है कि ईद से पहले घर के सबसे बड़े सदस्य के हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने से बड़ी ईदी कुछ और नहीं हो सकती. बेहद खुशी का पहल है कि राबिया अहमद ने कोरोना को मात दे दी है और बकीरद से पहले घर लौट आई हैं. वहीं जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने भी राबिया अहमद के जज्बे की तारीफ की और कहा कि वो समाज के लिए प्रेरणा का स्त्रोत हैं.

WATCH LIVE TV: