मेरठ: एंटी रोमियो दस्ता बेअसर, मनचलों से परेशान होकर बहनों को स्कूल छोड़ना पड़ा

मनचलों से परेशान होकर मेरठ में दो सगी बहनों को स्कूल छोड़ना पड़ा. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

मेरठ: एंटी रोमियो दस्ता बेअसर, मनचलों से परेशान होकर बहनों को स्कूल छोड़ना पड़ा
मामला दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस. (प्रतीकात्मक फोटो)

मेरठ: सरकार के तमाम दावे और कोशिशों के बाद भी मनचले बाज नहीं आ रहे हैं. यूपी के मेरठ में एकबार फिर दो बहनों को मनचलों की हरकतों और तेजाब से हमला कर देने की धमकी के बाद स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. एंटी रोमियो दस्ता बेअसर साबित हो रहा है. पीड़ित बहनों का कहना है कि स्थानीय पुलिस में इसकी शिकायत करने के बावजूद उन्हें पुलिस से कोई मदद नहीं मिली. पुलिस द्वारा कोई मदद नहीं मिलने से मनचलों के हौंसले और बुलंद हो गए हैं. दोनों बहनों ने अब अपनी मां के साथ एसएसपी के यहां न्याय और सुरक्षा के लिए दस्तक दी है. 

मनचलों द्वारा परेशान करने का यह मामला मेरठ के नौचंदी थाना क्षेत्र के लालसिंह नगर का है. इस मोहल्ले की रहने वाली दो सगी बहनों ने मनचलों के डर से स्कूल जाना छोड़ दिया है. एक बहन कक्षा नौ और दूसरी बहन कक्षा ग्यारह में पढ़ रही है. मनचलों से परेशान दोनों बहनों का कहना है कि कुछ मनचले पिछले कई महीने से स्कूल आते-जाते वक्त उन्हें परेशान करते हैं.

 

 

पीड़ित बहनों का कहना है कि एक आरोपी जबरन शादी करने का दबाव बना रहा है. शादी से इंकार करने पर वह अगवा कर जबरदस्ती शादी करने की धमकी दे रहा है. आरोपी युवकों ने धमकी दी कि अगर तुम मेरे से शादी नहीं करोगी तो तेजाबा से हमला कर चेहरा बिगाड़ देंगे. तेजाब हमले की धमकी से दोनों बहनों के पैरों तले जमीन खिसक गई.

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल से छेड़छाड़, क्या होगा साधारण महिलाओं का हाल ?

आखिरकार, दोनों बहनों ने सारी बात अपनी मां को बताई. मां ने बेटियों के साथ जाकर आरोपियों के खिलाफ नौचंदी थाने में तहरीर दी. मां का आरोप है कि नौचंदी थाना पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही हैं. इसलिए, डर के चलते उसने अपनी दोनों बेटियों को स्कूल जाने से रोक दिया है. बेटियों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है. 

एसिड अटैक पीड़िता को केंद्र सरकार की नौकरियों में आरक्षण मिलेगा

मीडिया में खबर आने के बाद नौचंदी थाना के इंस्पेक्टर बृजेश कुमार का कहना है कि दोनों बहनों की शिकायतें आई थीं. पुलिस कार्रवाई कर रही थी, लेकिन दोनों पक्षों में समझौता होने के बाद कार्रवाई नहीं की गई. पीड़ित फिर से तहरीर दे, जिसके बाद आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज कर जरूरी कार्रवाई की जाएगी.