close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शोध के लिए आर्कटिक जाएंगे 29 वैज्ञानिक, ITBP ने उत्‍तराखंड में दिया 11 दिन का प्रशिक्षण

Arctic:  वैज्ञानिकों के दल को सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलाकर यह प्रशिक्षण दिया गया.

शोध के लिए आर्कटिक जाएंगे 29 वैज्ञानिक, ITBP ने उत्‍तराखंड में दिया 11 दिन का प्रशिक्षण
वैज्ञानिकों को दिया गया प्रशिक्षण.

चमोली (पुष्कर चौधरी) : देश के 29 वैज्ञानिक आर्कटिक (Arctic) महाद्वीप पर विभिन्‍न शोध करने जा रहे हैं. इन सभी को वहां की विषम परिस्थितियों में शोध करने के लिए उत्‍तराखंड के औली में इंडो तिब्‍बतन बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) के हिमवीरों ने 11 दिनों तक प्रशिक्षण दिया है. इस दौरान उनकी ट्रेनिंग कम ऑक्‍सीजन वाले अधिक ऊंचाई के स्‍थानों, बर्फीली नदियों, बर्फ पर हुई.

उत्‍तराखंड के औली में स्थित एम एंड एस आई ITBP औली पिछले 27 वर्षों से आर्कटिक (Arctic) जाने वाले जवानों और वैज्ञानिकों को प्रशिक्षण देता आ रहा है. देश के किसी भी संस्थान से आर्कटिक (Arctic) महाद्वीप जाने वाले सदस्यों को आईटीबीपी के जवान कठिन प्रशिक्षण देकर तैयार करते हैं. हर साल करीब 4 वैज्ञानिकों का दल यहां प्रशिक्षण लेने पहुंचता है. ताकि वह आर्कटिक (Arctic) जाकर ठीक से रह सकें और रिसर्च कर सके.

इसमें सबसे मुख्य बर्फ, पानी, ट्रेकिंग और हाई एल्टीट्यूड में किस तरह रहना होता है यह सिखाया जाता है. वैज्ञानिकों के दल को सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलाकर यह प्रशिक्षण दिया गया. वैज्ञानिकों को औली, गोरषो, बसुधारा, चरण पादुका, और सतोपंथ में ट्रेनिंग दी गई, जिसके बाद अब वैज्ञानिक प्रशिक्षण पूरा होने के बाद अपने-अपने संस्थान भेज दिए गए हैं. अब ये 29 वैज्ञानिक आर्कटिक (Arctic) जाएंगे और अपनी रिसर्च पूरी कर सकेंगे.

देखें LIVE TV

भारतीय वैज्ञानिकों के कारनामे भारत ही नहीं बल्कि विश्व भी जानता है. अंतरिक्ष पर अपनी पहचान बनाने वाले भारतीय वैज्ञानिक इन दिनों भारतीय सेना के साथ विभिन्न प्रकार के शोध और प्रशिक्षण का कार्य कर रहे हैं.

इस कार्यक्रम में विभिन्न विभागों से जैसे एमओईएस, आईएमडी, आईआईजी, एनएसएस, आदि संस्थानों के वैज्ञानिक औली में शोध और ट्रैकिंग का प्रशिक्षण कर रहे हैं. इन लोगों ने उच्च हिमालई क्षेत्रों में सतोपंथ, वसुधारा, चरण पादुका, औली गोरसो आदि जगहों पर ट्रेनिंग की है.

चमोली जनपद की औली में आईटीबीपी पर्वतारोहण स्की संस्थान में विभिन्न विभागों के भारतीय वैज्ञानिक इन दिनों बर्फ पर चलना, ट्रेकिंग करना, हाई एल्टीट्यूड में कार्य में किस तरीके से कार्य किया जाता है, इसका परीक्षण कर रहे हैं इस परीक्षण के दौरान वैज्ञानिकों के ज्ञान से सेना के जवान भी रूबरू हो रहे हैं.

उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पहुंचे विभिन्न वैज्ञानिक अनेक चीजों पर शोध का कार्य भी कर रहे हैं. कठिन चढ़ाइयों को पार करना नालों को रस्सियों के द्वारा किस तरीके से पार किया जाता है, इसके अलावा बर्फ पर किस तरीके से युद्ध अभ्यास आईटीबीपी के जवान करते हैं. इसका पूरा अभ्यास भारतीय वैज्ञानिकों को कराया जा रहा है. सुबह से लेकर शाम तक कठिन परिश्रम कर यह भारतीय वैज्ञानिक अपने आपको और मजबूत बना रहे हैं ताकि भारत में विज्ञान के क्षेत्र में और कामयाबी हासिल किया जाए.