close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश में रह रहे 6 अवैध बांग्लादेशी नागरिक गिरफ्तार, पाकिस्तान भागने का बना रहे थे प्लान

उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा सोमवार की शाम जारी एक बयान के मुताबिक इन छह संदिग्धों को रविवार को आगरा रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया. 

देश में रह रहे 6 अवैध बांग्लादेशी नागरिक गिरफ्तार, पाकिस्तान भागने का बना रहे थे प्लान
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश एटीएस ने आगरा से छह बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है.गिरफ्तार किये गये ये बांग्लादेशी नागरिक अन्य अवैध प्रवासियों को भी बांग्लादेश से बुलाते थे और भारत में उनके फर्जी दस्तावेज आधार कार्ड तथा राशन कार्ड बनवाकर उनके फर्जी पासपोर्ट बनवा लेते थे. उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा सोमवार की शाम जारी एक बयान के मुताबिक इन छह संदिग्धों को रविवार को आगरा रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया. उनसे पूछताछ में पता चला कि ये सभी बांग्लादेशी नागरिक है जो भारत में अवैध रूप से रह रहे थे. इन सभी के खिलाफ उत्तर प्रदेश एटीएस ने मामला दर्ज कर लिया है.

बयान में कहा गया है कि इनके मोबाइल के डाटा विश्लेषण से ज्ञात हुआ कि इनकी राजस्थान और पंजाब से लगती पाकिस्तान सीमा तक गतिविधि थी. अब तक की पूछताछ में उन्होंने बताया कि पाकिस्तान जाने के लिये उन्होंने बाड़ पार करने की कोशिश की लेकिन वे सफल नहीं हुये.

पाकिस्तान में मौजूद उनके सहयोगियों ने इलेक्ट्रिक टेस्टर लेकर बिजली चेक कर प्रवेश करने को कहा था. गिरफ्तार अभियुक्तों में बांग्लादेश के मदारीपुर के हबीबुर रहमान, नारायणगंज के जाकिर हुसैन,खानसामा के मो काबिल, सिलेट के कमालुददीन, माइमान सिंह जिले के ताइजुल इस्लाम और गाजीपुर के लिटोन विश्वास शामिल हैं.

ये सभी बांग्लादेश के रहने वाले थे. इनके पास से सात मोबाइल फोन, नौ सिमकार्ड, छह आधार कार्ड, चार इलेक्ट्रॉनिक टेस्टर, 37 हजार रुपये, बांग्लादेश तथा पाकिस्तान के नंबर लिखी पर्चिया, रेलवे टिकट और मेमोरी कार्ड बरामद हुये.

इससे पहले एटीएस ने पिछले साल एक अवैध बांग्लादेशी नजरूल को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया था जबकि उसके दो अन्य स्थानीय सहयोगियों अहसान अहमद और वसीम अहमद को सहारनपुर के देवबंद से गिरफ्तार किया गया था.इससे पहले सितंबर, 2017 में चारबाग रेलवे स्टेशन (लखनऊ) से तीन अवैध बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया था.