close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केदारनाथ यात्रा में अब तक 8 तीर्थयात्रियों की मौत, 94 हजार से अधिक लोगों ने किया दर्शन

नौ मई को भगवान केदारनाथ के कपाट आम श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले गये और अब तक 94 हजार 779 श्रद्धालु बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं. 

केदारनाथ यात्रा में अब तक 8 तीर्थयात्रियों की मौत, 94 हजार से अधिक लोगों ने किया दर्शन
.(फाइल फोटो)

रुद्रप्रयाग: केदारनाथ यात्रा में आये तीर्थयात्रियों को स्वास्थ्य सेवाएं समय से उपलब्ध नहीं हो पा रही है. जिस कारण उनकी तबियत बिगड़ने से सीधे मौत हो रही है. अब तक केदार यात्रा में आये तीर्थयात्रियों में आठ लोगों की ऑक्सीजन की कमी और तबियत खराब होने से मौत हो चुकी है. इससे प्रशासन की यात्रा व्यवस्थाओं के दावों की हकीकत सामने आ रही है. स्वास्थ्य महकमा भी इस बार तीर्थयात्रियों को कोई खास राहत नहीं दे पा रहा है. नौ मई को भगवान केदारनाथ के कपाट आम श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले गये और अब तक 94 हजार 779 श्रद्धालु बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं.

इस बार शुरूआत में कम संख्या में ही तीर्थयात्री बाबा के दरबार में पहुंचे हैं.  जबकि पिछले वर्ष अब तक आंकड़ा दो लाख के पार हो चुका था. माना यह भी जा रहा है कि देशभर में हो रहे लोकसभा चुनाव के कारण यात्रियों की संख्या में कमी आई है. जबकि स्कूलों में छुट्टियां भी नहीं पड़ी हैं.

जिस कारण कम संख्या में ही यात्री पहुंच रहे हैं. इस बार की यात्रा में सबसे ज्यादा तीर्थयात्री रविवार को धाम पहुंचे. जिसमें एक दिन में 14 हजार से ज्यादा तीर्थयात्रियों ने बाबा केदार के दर्शन किये हैं. रविवार की सुबह पीएम मोदी केदारनाथ धाम से बद्रीनाथ के लिए निकले थे. इससे पहले उन्होंने केदारनाथ में एक दिन व्यतीत किया था.

देखा जाय तो इस बार यात्रियों की संख्या में कमी देखने को मिली है. मगर यात्रा पर आये तीर्थयात्रियों में अब तक आठ यात्रियों में छः की आॅक्सीजन की कमी के कारण मौत हो चुकी है. इन सब तीर्थयात्रियों की उम्र 50 से ऊपर थी. जिससे उन्हें चलने में काफी दिक्कतें हुई और उन्हें समय से भी ईलाज नहीं मिल पाया और उनकी मौत हो गई.

इसके अलावा एक तीर्थयात्री की ऊपरी पहाड़ी से बर्फ गिरने और एक तीर्थयात्री की हार्टअटेक से मौत हुई है. तीर्थयात्रियों की मौत का एक और कारण भी माना जा रहा है कि केदारनाथ के लिए समय से हेली सेवाएं भी शुरू नहीं हो पाई. पिछले वर्ष यात्रा से एक.दो दिन पहले ही हेली सेवाएं केदारघाटी में आ जाती थीए लेकिन इस बार एक सप्ताह बाद हेली सेवाएं यहां आई हैं और पांच हेली सेवाओं को ही अभी तक अनुमति मिल पाई हैं.

बाकी की सेवाएं अनुमति मिलने का इंतजार कर रही हैं. हेली सेवाओं के बाहर तीर्थयात्री टिकट के लिए खड़े हैं. लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिल पा रहा है. ऐसे में वे पैदल यात्रा करने को मजबूर हैं. सबसे अधिक दिक्कतें बुजुर्ग तीर्थयात्रियों को हो रही है जो घोड़े.खच्चर से जाने में भी असमर्थ हैं. प्रशासन की ओर से स्वास्थ्य केन्द्र तो यात्रा मार्ग पर खोले गये हैं.

लेकिन उनका सही समय पर लाभ नहीं मिल पा रहा है. पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि केदारनाथ यात्रा में अब तक आठ तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी हैए जिसमें एक तीर्थयात्री के ऊपर बर्फ गिरने और एक की हार्टअटेक से मौत हुई है. इसके अलावा छः यात्रियों की ऑक्सीजन की वजह से मौत हुई है. हाई एल्टीट्यूड होने से तीर्थयात्रियों को ऑक्सीजन की दिक्कतें हो रही है.

केदारनाथ में मौसम कब बदल जायए कहा नहीं जा सकता. शारीरिक दक्षता में परिपूर्ण न होने से तीर्थयात्रियों को आॅक्सीजन की समस्या से जूझना पड़ रहा है. प्रशासन की ओर से स्वास्थ्य सुविधाओं का पूरा लाभ दिया जा रहा है. इसके अलावा सिक्स सिग्मा टीम भी यात्रियों की सेवा में जुटी हुई है.

तीर्थयात्रियों को अपने साथ सभी तैयारियों के साथ चलने के लिए कहा गया हैए बावजूद इसके कुछ तीर्थयात्री बिना तैयारी के ही धाम में यात्रा कर रहे हैं. ऐसे में उन्हें दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है.