आप उपाध्यक्ष ने रामनगर में की कोविड सेंटर बनाने की मांग,हालातों को देखते हुए कन्वेंशन सेंटर बने कोविड सेंटर

उक्त बातों को ध्यान में रखते हुए उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जिनके पास स्वास्थ्य विभाग भी है. वे स्वास्थ्य सचिव जिला अधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को तुरंत निर्देशित करने की कृपा करेंगे. ताकि इस महामारी में अधिक से अधिक लोगों की जान बचाई जा सके और अधिक से अधिक लोगों को फायदा पहुंचाया जा सके.

आप उपाध्यक्ष ने रामनगर में की कोविड सेंटर बनाने की मांग,हालातों को देखते हुए कन्वेंशन सेंटर बने कोविड सेंटर

रामनगर: आप उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत ने रामनगर में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए ,रामनगर में मौजूद , कन्वेंशन सेंटर को कोविड-सेंटर बनाने के संबंध में सरकार को पत्र भेजा है. आप उपाध्यक्ष ने कहा,  विगत वर्ष सावलदे  कहानियां में करीब 5 एकड़ में पर्यटन विभाग द्वारा एक कन्वेंशन सेंटर निर्माण किया गया है, जो लगभग 571. 4 7 लाख से बना हुआ है.

 पिछले साल कोरोना काल के दौरान उसे क्वारंटाइन सेंटर बनाने हेतु जिला प्रशासन द्वारा करीब डेढ़ सौ दो सौ बेड लगाकर व्यवस्था करने की शुरुआत  की गई थी.लेकिन, कोरोना की गति धीमी पड़ने पर सब लोगों ने शायद यह सोचा कि अब रामनगर में कोविड-सेंटर की जरूरत नहीं पड़ेगी. लेकिन, आज कोविड-19 की महामारी बहुत तेजी से फैल रही है.लोग परेशान हैं ऐसे में आप उपाध्यक्ष ने सरकार से मांग करते हुए कहा, उक्त स्थान  को बिना देरी किए हुए  कोविड-19 सेंटर  बनाने के आदेश तुरंत निर्गत किए जाएं.

जिससे राम नगर वासियों सहित जिला अल्मोड़ा व जिला पौड़ी गढ़वाल  के निवासियों को भी इसका लाभ मिल सके. क्योंकि रामनगर में जो राजकीय रामदास जोशी हॉस्पिटल था. उसको भी सरकार द्वारा प्राइवेट पब्लिक मोड में दिया गया है. जिस कारण वहां पर भी कोविड-19  का इलाज नहीं हो पा रहा है व पीरुमदारा में एक प्राइवेट हॉस्पिटल जो नीम करोली बाबा के नाम से हाल ही में खोला गया. उसमें अधिक खर्चा होने के कारण आम नागरिकों गरीब व्यक्ति कोविड  का इलाज नहीं करवा पा रहा है  है.

उक्त बातों को ध्यान में रखते हुए उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जिनके पास स्वास्थ्य विभाग भी है. वे स्वास्थ्य सचिव जिला अधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को तुरंत निर्देशित करने की कृपा करेंगे. ताकि इस महामारी में अधिक से अधिक लोगों की जान बचाई जा सके और अधिक से अधिक लोगों को फायदा पहुंचाया जा सके.