'डॉक्टर बम' को नहीं भा रही थी अयोध्या फैसले और CAA पर शांति, बनाया था ये खतरनाक प्लान!

सूत्रों के मुताबिक, मुंबई बम धमाकों का दोषी डॉ. जलीस अंसारी बम में प्रयोग की जाने वाली ऐसी सामग्री का चयन कर रहा था, जो खुले बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाए.

'डॉक्टर बम' को नहीं भा रही थी अयोध्या फैसले और CAA पर शांति, बनाया था ये खतरनाक प्लान!
(फाइल फोटो)

लोमस कुमार झा/लखनऊ: वर्ष 1993 में मुंबई बम धमाकों के दोषी डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम को हाल ही में यूपी एसटीएफ ने कानपुर से गिरफ्तार किया था. वहीं, अब यूपी एसटीएफ डॉक्टर बम से लगातार पूछताछ कर रही है. इन सबके बीच सूत्रों का कहना है कि डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम अयोध्या फैसले के बाद यूपी में शांति और सीएए को लेकर काफी बैचैन था. सूत्रों का कहना है कि डॉक्टर बम ने यूपी एसटीएफ को बताया है कि वह बम बनाने की नवीनतम तकनीक का प्रयोग करके सस्ते से सस्ते सामानों और रासायनिक पदार्थों का प्रयोग करके बम बनाने की कोशिश कर रहा था. 

पूछताछ में किए चौंकाने वाले खुलासे
सूत्रों के मुताबिक, मुंबई बम धमाकों का दोषी डॉ. जलीस अंसारी बम में प्रयोग की जाने वाली ऐसी सामग्री का चयन कर रहा था, जो खुले बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाए. जिस पर किसी को शक भी ना हो और जो ब्लास्ट करने में अधिक हानिकारक और प्रभावशाली साबित हो. बता दें कि मुंबई बम धमाकों का दोषी डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम पैरोल के समय वापस जेल जाने के बजाए फरार हो गया था. सीबीआई के इस सजायाफ्ता आतंकी को यूपी एसटीएफ ने कानपुर से बीती 17 जनवरी को गिरफ्तार किया था.

नेपाल भागने की फिराक में था जलीस
जलीस 26 दिसंबर 2019 से पैरोल पर था. पुलिस का मानना है कि डॉ. जलीस देश से भागने की फिराक में था और नेपाल में छुपने का इरादा था. आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि डॉ. जलीस अंसारी का नाम 50 से अधिक सीरियल बम विस्फोट में था. उसको 26 दिसंबर को तीन सप्ताह के लिए पैरोल पर छोड़ा गया था. इसके बाद 17 जनवरी को वापस जेल जाना था. मुंबई से गायब होने की सूचना पर एसटीएफ सक्रिय हो गई थी.

बता दें कि डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम के परिवार वालों ने इसके भागने की सूचना पुलिस को तब दी, जब ये भाग गया था. बताया जा रहा है कि डॉक्टर बम ने कानपुर में दिल्ली से हावड़ा और हावड़ा से दिल्ली राजधानी में धमाके की साजिश रची थी. गौरतलब है कि कुख्यात आतंकी डॉ. जलीस अंसारी मुंबई स्थित अपने क्लीनिक में ही बम बनाता और नए-नए प्रयोग करता था. उसकी ये क्लीनिक बम बनाने की प्रयोगशाला थी. आतंक की दुनिया में उसे डॉक्टर बम के नाम से जाना जाता है. जलीस अंसारी ने आतंकी अब्दुल करीम टुंडा से बम बनाने की ट्रेनिंग ली थी. वह पाकिस्तान और बांग्लादेश भी जा चुका है.

डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम सिमी (SIMI) समेत कई प्रतिबंधित संगठनों के सीधे संपर्क में था. अंसारी ने 1984 में एमबीबीएस की डिग्री हासिल की. डॉ. जलीस अंसारी ने मुंबई महानगर पालिका के अस्पताल में डॉक्टरी शुरू की. इस दौरान उसने मरीजों को देखने की आड़ में क्रश इंडिया मूवमेंट यानी भारत को तबाह करने की तैयारी प्लान बनाना शुरू किया. अंसारी को टाइम बम बनाने में महारत हासिल है. साथ ही ब्रेन वॉश करने में भी इसका कोई सानी नहीं है. वर्ष 1993 में बड़े धमाके करने से पहले उसने 100 से ज्यादा युवाओं का ब्रेन वॉश कर उन्हें अपने मूवमेंट में शामिल कर लिया था.