अयोध्या फैसले के बाद अब 6 दिसंबर को VHP नहीं मनाएगी शौर्य दिवस, ये है वजह

देश में शांति और सद्भाव का माहौल कायम रहे, इसे दिखते हुए ढांचा ध्वंस की 28वीं बरसी पर 6 दिसंबर को शौर्य दिवस न मनाने का फैसला लिया गया है.

अयोध्या फैसले के बाद अब 6 दिसंबर को VHP नहीं मनाएगी शौर्य दिवस, ये है वजह

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से अयोध्या विवाद (Ayodhya Case) पर आए ऐतिहासिक फैसले के बाद अब VHP (Vishva Hindu Parishad) ने अपनी ओर से एक बड़ा निर्णय लिया है. देश में शांति और सद्भाव का माहौल कायम रहे इसे दिखते हुए ढांचा ध्वंस की 28वीं बरसी पर 6 दिसंबर को VHP ने शौर्य दिवस न मनाने का फैसला किया है.

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट से आए फैसले के बाद देश में शांति का माहौल है. ऐसे में शांति और सद्भाव का माहौल न बिगड़े, इस के लिए विहिप ने शौर्य दिवस (Shaurya diwas) की जगह मठ-मंदिरों और घरों में दीप प्रज्वलित करने का फैसला किया है. विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा ने बताया कि रामलला के पक्ष में आए कोर्ट के फैसले के बाद, अब अयोध्या सहित देशभर में 6 दिसंबर को आयोजित होने वाले शौर्य दिवस के कार्यक्रम को स्थगित कर दिया है. लेकिन 6 दिसंबर की घटना हिन्दुओं को सदैव स्वाभिमान और सम्मान का स्मरण कराती रहेगी. 

उन्होंने कहा कि शौर्य दिवस के कार्यक्रम को स्थगित करने का निर्णय लेकर विहिप पदाधिकारियों ने देश में शांति और सद्भाव को बल प्रदान किया है. शरद शर्मा ने कहा कि विहिप नहीं चाहती है कि न्यायालय के इतने बड़े फैसले को हम 2-4 घंटे में सीमित कर दें. 6 दिसंबर को शौर्य दिवस न मनाने की बात बताते हुए उन्होंने कहा "रामलला के पक्ष में आए फैसले का स्वागत देश के प्रत्येक राम भक्त ने किया है. राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की बेला अब निकट है, ऐसे में आने वाले दिनों में रामभक्तों को शौर्य और विजय दिवस रामलला के भव्य और दिव्य मंदिर में मनाने का शुभ अवसर प्राप्त होगा."