Lockdown में आगरा से BJP सांसद सत्य पाल सिंह बघेल ने पेश की नजीर, किया ऐसा काम

आगरा से बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह बघेल ने लॉकडाउन की वजह से आगरा न जा-पाने वालों के लिए दिल्ली स्थित अपना बंगला खोल दिया है. इसके लिए बाकायदा उन्होंने चिट्ठी लिखी है. 

Lockdown में आगरा से BJP सांसद सत्य पाल सिंह बघेल ने पेश की नजीर, किया ऐसा काम
फाइल फोटो

आगरा: कोरोना वायरस की वजह से देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा पीएम मोदी ने की है. इस ऐलान के बाद 14 अप्रैल तक पूरा देश मानो थम-सा गया है.

लॉकडाउन की वजह से सभी तरह के यातायात साधनों पर रोक लगा दी है. ऐसे में आस-पास के राज्यों के लोग पैदल ही अपने-अपने गांवों, शहरों के लिए निकल गए हैं. लेकिन इस बीच आगरा के लोगों के लिए राहतभरी खबर है. आगरा से बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह बघेल ने लॉकडाउन की वजह से आगरा के निवासियों के लिए दिल्ली स्थित अपना बंगला खोल दिया है. इसके लिए बाकायदा उन्होंने चिट्ठी लिखी है.

सांसद और उनका बंगला

इस चिट्ठी में उन्होंने लिखा है, "आगरा के जो लोग किन्हीं कारणों से दिल्ली में फंस हुए हैं और लॉकडाउन होने के कारण जिनका आगरा जाना संभव नहीं हो पा रहा है, ऐसी स्थिति में उनके रहने और खाने की यदि समस्या है तो वे पुलिस प्रशासन की अनुमित से मेरे बंगले में आकर रह सकते हैं. बंगले का पता बंगला नंबर-7, के. कामराज लेन, नई दिल्ली है. वहां, मेरे सहायक पंकज मौजूद हैं. उनका फोन नंबर 9818742979 है."

सांसद एसपी सिंह बघेल ने Zee News से बातचीत करते हुए कहा कि आगरा के निवासी, जो दिल्ली में फंसे हैं, वह मेरे सहायक पंकज से संपर्क कर सकते हैं. सांसद ने कहा कि उन्होंने अपने निवास पर ऐसे ठहरने वाले लोगों के लिए खाने, पीने समेत दैनिक जीवन के आवश्यक वस्तुओं  की भी व्यवस्था की हुई है. साथ ही उन्होंने कहा कि उनका आने वाले आगंतुकों से ये निवेदन भी है कि वे उनके बंगले में रहते समय भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.

 

गौरतलब है कि तीन दिन पहले उन्होंने अपनी सासंद निधि से आगरा लोकसभा की जनता के लिए इस महामारी से निपटने के लिए 10 लाख रुपये आवश्यक सामग्री एवं उपकरण खरीदने के लिए जिलाधिकारी आगरा को जारी किए हैं.

कोरोना संकट: मोदी सरकार के राहत पैकेज की मायावती ने की सराहना, साथ ही की ये अपील

आपको बता दें कि योगी सरकार ने फैसला लिया है कि प्रदेश में किसी को भूखा नहीं सोने दिया जाएगा. इसके अलग-अलग स्वसहायता समूहों के साथ किचन तैयार किया गया है जहां जरूरतमंद लोगों के लिए खाना बनेगा और उसे लोगों में बांटा जाएगा.