कांग्रेस नहीं भुना पा रही अजय लल्लू की गिरफ्तारी का मुद्दा, यूपी कांग्रेस में गुटबाज़ी बनी बड़ी वजह

बसों के फर्जीवाड़े मामले में गिरफ्तार हुए यूपी प्रदेश कांग्रेस अध्य्क्ष अजय लल्लू की गिरफ्तारी का मुद्दा यूपी कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित हो सकता था.

कांग्रेस नहीं भुना पा रही अजय लल्लू की गिरफ्तारी का मुद्दा, यूपी कांग्रेस में गुटबाज़ी बनी बड़ी वजह

लखनऊ: बसों के फर्जीवाड़े मामले में गिरफ्तार हुए यूपी प्रदेश कांग्रेस अध्य्क्ष अजय लल्लू की गिरफ्तारी का मुद्दा यूपी कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित हो सकता था. इसके दम पर यूपी में कांग्रेस वापसी कर सकती थी, लेकिन पार्टी में लगातार चल रही गुटबाज़ी के चलते आलम ये है कि कोई भी कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर या किसी तरह के बड़े संघर्षो से बचता हुआ नजर आ रहा है. 

राहुल गांधी हों या प्रियंका गांधी, दोनों ही सोशल मीडिया के माध्यम से अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी को सरकार विरोधी बता रहे हैं, लेकिन उसके बाद भी कांग्रेस के प्रदेश के नेताओं की प्रेस कॉन्फ्रेंस और पार्टी दफ्तर के अंदर ही मात्र आंदोलन के बैनर ही लगाकर कांग्रेस सांकेतिक प्रदर्शन करती हुई नजर आ रही है जिससे आंदोलन को धार नहीं मिल पा रही है.

यूपी कांग्रेस ने अजय लल्लू की गिरफ्तारी पर योगी सरकार को घेरा, कहा 'हाईकोर्ट जाएगी कांग्रेस'

उत्तर कांग्रेस प्रदेश अध्य्क्ष अजय लल्लू की गिरफ्तारी के बाद 1 जून को उनकी बेल स्पेशल एमपी एमएलए कोर्ट ने खारिज कर दी. जिसके बाद अब कांग्रेस पार्टी हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर रही है. अब सवाल यह भी उठता है कि कांग्रेस अगर कोई प्रदर्शन करेगी भी तो इसका नेतृत्व कौन करेगा. हालांकि कांग्रेस के प्रवक्ता ये दलील जरूर दे रहे हैं कि हम लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से संघर्ष कर रहे है, लेकिन जहां भी सड़कों पर संघर्ष कर रहे हैं, सरकार फ़र्ज़ी मुकदमा लिखवा रही है.

कोरोना काल में किसानों के लिए 'संकटमोचक' बनी योगी सरकार, गेहूं खरीदी भी हुई, चीनी मिलें भी चलीं

गौरतलब है कि कांग्रेस प्रदेश अध्य्क्ष के खिलाफ पुलिस ने लखनऊ में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था और इसके बाद लखनऊ पुलिस ने आगरा जाकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लखनऊ पुलिस की दलील और दस्तावेज देखने के बाद कोर्ट ने बीते सोमवार को लल्लू की जमानत खारिज कर दी थी. फिलहाल जिस मुद्दे पर कांग्रेस और यूपी सरकार आमने-सामने आ गए थे उस मुद्दे पर यूपी कांग्रेस की गुटबाज़ी ने मात्र सोशल मीडिया तक ही अपना विरोध सीमित कर दिया.