close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

EVM पर मचा घमासान, अखिलेश- मायावती ने साधा BJP पर निशाना

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ईवीएम की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर सबकुछ ठीक है तो जापान जैसे विकसित देश मशीन का इस्तेमाल क्यों नहीं करते? 

EVM पर मचा घमासान, अखिलेश- मायावती ने साधा BJP पर निशाना
फोटो साभार- @yadavakhilesh

नई दिल्ली: ईवीएम पर मचे घमासान पर अखिलेश यादव और मायावती ने बीजेपी जमकर निशाना साधा है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला किया है. उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर लोकतंत्र को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी ने सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं पर पहरा लगा दिया है. 

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ईवीएम की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर सबकुछ ठीक है तो जापान जैसे विकसित देश मशीन का इस्तेमाल क्यों नहीं करते? उन्होंने कहा कि जरूरी है कि देश के लोकतंत्र पर जनता का भरोसा हो, हैकिंग का दावा करने वालों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. 

जनेश्वर मिश्र की पुण्य तिथि समारोह में शामिल होने पहुंचे अखिलेश यादव ने कहा कि दुनिया के तमाम देश जो तकनीकी और विज्ञान में आगे हैं, वह चुनाव प्रणाली के लिए ईवीएम का प्रयोग नहीं करते हैं. उन्होंने चुनाव नतीजों पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज सवाल यह उठ रहा है कि देश में लोकतंत्र कैसे बचेगा? आज भी गांवों में लोग भरोसा नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि उन्होंने वोट साइकिल को दिया था और जूत कमल की हुई. ये सवाल लोगों के मन में है कि कि साइकिल को वोट देने के बाद कमल कैसे जीत गई. 

मायावती ने कहा कि लंदन में एक साइबर विशेषज्ञ द्वारा यह दावा करना कि 2014 में लोकसभा चुनाव के अलावा उत्तर प्रदेश, गुजरात आदि राज्यों के पिछले विधानसभा चुनावों में ईवीएम के जरिये जबरदस्त धांधली की गई थी, ईवीएम धांधली पर जारी विवाद को और भी ज्यादा गंभीर बनाता है.उन्होंने लोकतंत्र के व्यापक हित में ईवीएम विवाद पर तत्काल समुचित ध्यान देने की जरूरत व्यक्त करते हुये कहा कि वोट हमारा राज तुम्हारा, नहीं चलेगा, इसलिये जनता की इस आशंका का समय पर संतोषजनक समाधान होना जरूरी है.

मायावती ने सुझाव दिया कि निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव सुनिश्चित करने के लिये मतपत्रों के द्वारा मतों के सत्यापन की बेहतर व्यवस्था संभव है, जबकि ईवीएम के सत्यापन की ऐसी कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है. इसके मद्देनजर उन्होंने चुनाव आयोग से ईवीएम के ताजा विवाद पर संज्ञान लेते हुये देश में अगला लोकसभा चुनाव मतपत्रों से ही कराये जाने की मांग की.

सपा अध्यक्ष ने कहा कि लोकसभा चुनाव सपा बसपा के लोग मिलकर जीतेंगे. उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र बचाना जरूरी है. सपा-बसपा का गठबंधन 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में ये बता देगा कि देश की अवाम का बीजेपी सरकार से मन भर चुका है. उन्होंने कहा कि ईवीएम का सवाल देश की 130 करोड़ लोगों तक जाना चाहिए. जनता को सच्चाई पता चलनी चाहिए. आपको बता दें कि इसके पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कहा कि देश के लोकतंत्र की रक्षा करने की जरूरत है.