अलीगढ़: गाय-बछड़ों से परेशान किसानों के लिए राहत, 7500 गोवंश के लिए जल्द बनेगी गोशाला

इससे पहले अलीगढ़ में पुलिस प्रशासन ने बड़ी पहल की थी. इसके मुताबिक जिले के बड़े पुलिस अधिकारियों और थाना प्रभारियों ने एक एक गाय को पालने का निर्णय लिया था.

अलीगढ़: गाय-बछड़ों से परेशान किसानों के लिए राहत, 7500 गोवंश के लिए जल्द बनेगी गोशाला

अलीगढ : यूपी में इन दिनों दूध न देने वाली गाय और बछड़े किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं. ये गोवंश फसल को भारी नुकसान पहुंचा रहा है. इसलिए अलीगढ़ ज़िला प्रशासन ने गौवंश के रख रखाव के लिए युद्धस्तर पर मुहिम छेड़ी है. तहसील कोल के अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपना एक दिन का वेतन देकर गोशाला का निर्माण शुरू करा दिया है.

जिला प्रशासन सरकार मिली मदद के अलावा चंदा भी जुटा रहा है. दस जनवरी तक 7,500 गौवंश के लिए गौशाला बन जाएगी. इसके लिए कर्मचारियों सहित समाजसेवियों से दान की अपील की गई है. गोशाला के लिए चंदा मांगा जा रहा है. इसके लिए बैंक का नंबर भी जारी किया गया है. जिलाधिकारी ने गोवंश पलको द्वारा दूध न देने वाली गायों को छोड़ने के विरुद्ध पशु क्रूरता के तहत कार्यवाही करने के आदेश जारी किए हैं.

आवारा गोवंश को लेकर मचे बबाल के बाद यूपी सरकार ने गंभीरता दिखाना शुरू कर दिया है. अलीगढ़ में गौशाला के लिए एक करोड़ बीस लाख रुपये दिए गए हैं. लेकिन ज़िला प्रशासन द्वारा इस समस्या के लिए एक नई पहल करते हुए राइफल एसोसिएशन के फंड से बीस लाख रुपये गोशालाओं के लिए और दिया है और अन्य बीस लाख की किश्त भी जल्द जारी कर दी जाएगी.

इसके साथ ही समाज सेवियों से सहयोग की अपील पर पांच लाख रुपये व्यापारी द्वारा दिये गए. इसके चलते 7500 गौवंश की गौशाला दस जनवरी तक शुरू हो जाएगी. कर्मचारियों व अधिकारियों से एक दिन के वेतन दान में देने की अपील पर तहसील कोल के राजस्व कर्मियों ने अपना एक दिन का वेतन दिया है. इससे दो लाख 33 हज़ार मिले हैं. बाजिदपुर पर गौशाला का निर्माण शुरू कर दिया गया है प्रशासन की इस मुहिम से गौवंश के लिए राहत की खबर है.

इससे पहले अलीगढ़ में पुलिस प्रशासन ने बड़ी पहल की थी. इसके मुताबिक जिले के बड़े पुलिस अधिकारियों और थाना प्रभारियों ने एक एक गाय को पालने का निर्णय लिया था.