कोविड की वजह से मंदी की मार झेल रही ताला नगरी, कारीगरों के सामने गुजर-बसर की चुनौती

अलीगढ़ ताला उद्योग एसोसिएशन के चेयरमैन चन्द्रशेखर शर्मा ने बताया कि इस समय उद्योगों की हालत बेहद खराब है. कोविड की वजह से मांग में कमी आई है साथ ही कच्चा माल भी समय से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है.

कोविड की वजह से मंदी की मार झेल रही ताला नगरी, कारीगरों के सामने गुजर-बसर की चुनौती
सांकेतिक तस्वीर.

अलीगढ़: पहले कोविड-19 और लॉकडाउन के बाद अब रॉ मटेरियल सहित अन्य समस्याओं से जूझ रही अलीगढ़ की ताला इंडस्ट्री बदहाली के कगार पर पहुंच है. इससे ताला व्यवसाय से जुड़े छोटे उद्यमियों के साथ-साथ कारीगरों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. 

UPPSC ने घोषित किया PCS-2018 का अंतिम परिणाम, टॉप थ्री पोजिशंस पर लड़कियों का कब्जा

अलीगढ़ ताला उद्योग एसोसिएशन के चेयरमैन चन्द्रशेखर शर्मा ने बताया कि इस समय उद्योगों की हालत बेहद खराब है. कोविड की वजह से मांग में कमी आई है साथ ही कच्चा माल भी समय से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है. बाहर से आए मजदूर भी पलायन कर चुके हैं, जिससे काम करने में मुश्किल हो रही है. कच्चा माल जिन जगहों से आ रहा था वहां भी उद्योग बंद हैं, कमी के चलते कच्चे माल के रेट भी बढ़े हैं इससे उद्योग-धंधों की कमर टूट गई है.

मैनपुरी: थाने से सिर्फ 50 मीटर दूर भांजों ने दिनदहाड़े की मामा की हत्या, ईंट-पत्थरों से ​कूच दिया सिर

पिछले कई सालों से ताला बनाने का काम कर रहे कारीगर आदिल का कहना है कि कोरोना की वजह से काम बहुत धीमा चल रहा है. इस वक्त आमदनी कम है, लेकिन किसी तरह बच्चों की गुजर-बसर कर रहे हैं. ताला उद्योग से जुड़े कारीगर अपना काम बदलने को मजबूर हो गए हैं. उन्हें जीवन यापन के लिए दूसरा काम करना पड़ रहा है.

WATCH LIVE TV