close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ऑनलाइन होंगे उत्तराखंड के सभी मदरसे, कॉरपोरेट व्यवस्था के तौर पर होंगे संचालित

बोर्ड के सामने मदरसों के समकक्षता का बड़ा मसला है जिसे सुलझाने के लिए शासन स्तर पर कवायद शुरू कर दी गई है. अगर मदरसों के समकक्षता का मसला हल हो जाता है, तो इनमें पढ़ने वाले छात्र अन्य बोर्डों की भांति अलग-अलग संस्थानों में दाखिला ले पाएंगे. 

ऑनलाइन होंगे उत्तराखंड के सभी मदरसे, कॉरपोरेट व्यवस्था के तौर पर होंगे संचालित
उत्तराखंड मदरसा बोर्ड से मान्यता प्राप्त मदरसों की कुल संख्या फिलहाल 297 हैं, जिसमें करीब 50 हजार छात्र तालिम ले रहे हैं.

देहरादून: उत्तराखंड मदरसा बोर्ड गठन के करीब चार वर्ष बाद अब मदरसों को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया गया है. केवल ऑनलाइन ही नहीं बल्कि मदरसों को कॉरपोरेट व्यवस्था के तौर पर संचालित करने का खाका भी तैयार किया जा रहा है. हाल ही में मदरसा बोर्ड के चेयरमैन का पदभार ग्रहण करने वाले बिलाल रहमान मदरसों की बेहतरी को लेकर तमाम तरह के जरूरी कदम उठाने का दावा कर रहे हैं.

राज्य में हैं कुल 297 मदरसे 
उत्तराखंड मदरसा बोर्ड से मान्यता प्राप्त मदरसों की कुल संख्या फिलहाल 297 हैं, जिसमें करीब 50 हजार छात्र तालिम ले रहे हैं. बोर्ड के सामने मदरसों के समकक्षता का बड़ा मसला है जिसे सुलझाने के लिए शासन स्तर पर कवायद शुरू कर दी गई है. अगर मदरसों के समकक्षता का मसला हल हो जाता है, तो इनमें पढ़ने वाले छात्र अन्य बोर्डों की भांति अलग-अलग संस्थानों में दाखिला ले पाएंगे. बीते दिनों केंद्र की मोदी सरकार ने अल्पसंख्यक कल्याण को लेकर कई बाते की हैं, जिसमें मुख्य रूप से छात्रों को बेहतर शिक्षा दिए जाने पर खास फोकस रखा गया. माना जा रहा है इसी क्रम में उत्तराखण्ड में मदरसों को ऑनलाइन करने की कवायद शुरू की जा रही है.

लाइव टीवी देखें

छात्रों को मिलेगी बेहतर सुविक्षा
अब तक दिनी तालिम लेने वाले छात्रों के लिए मदरसों के ऑनलाइन होने का सबसे बड़ा लाभ मिलेगा. बोर्ड के चेयरमैन ने तो ऑनलाइन से आगे बढ़कर मदरसों को कारपोरेट व्यवस्था के जरिए संचालित करने का दावा किया है. इससे मदरसों की व्यवस्था में तो सुधार आएगा ही लेकिन छात्रों को ऑनलाइन तमाम तरह की पुस्तकें पढ़ने और उनसे काफी कुछ सीखने का अवसर भी प्राप्त होगा. राष्ट्रीय मुस्लिम मंच से जुड़े उत्तराखण्ड मदरसा बोर्ड के नए चेयरमैन बिलाल रहमान मदरसों को लेकर गंभीर नजर आ रहे हैं. जिन मदरसों का परीक्षाओं में परिणाम बेहतर नही है वो मदरसे भी बोर्ड की नजर में हैं.