उत्तराखंड: बिगड़ा थाली का जायका, सब्जियों से भी महंगा पड़ रहा है 'तड़का'

यहां सब्जियां उतनी महंगी नही पड़ रही हैं, जितना महंगा उनमें तड़के लिए इस्तेमाल होने वाले लहसुन-प्याज पड़ रहे हैं. 

उत्तराखंड: बिगड़ा थाली का जायका, सब्जियों से भी महंगा पड़ रहा है 'तड़का'
फुटकर बाजार में प्याज का दाम 50 रुपये प्रति किलो है. अगर बात टमाटर की करें, तो टमाटर 60 से 80 रुपये किलो की दर से बिक रहा है.

कुलदीप नेगी/देहरादून: आम आदमी की खाने की थाली का स्वाद इन दिनों बिगड़ सा गया है. लोगों को इतनी महंगी सब्जी नहीं पड़ रही है, जितना महंगा सब्जी में तड़के के लिए इस्तेमाल होने वाला लहसुन, प्याज और टमाटर पड़ रहा है. जी हां, सब्जी उतनी महंगी नहीं है, लेकिन तड़के के भाव आसमान छू रहे हैं. तड़के में इस्तेमाल होने वाली चीजों में सबसे महंगा पड़ रहा है लहसुन. लहसुन के दाम इन दिनों देहरादून की मंडी में 250 से 350 रुपये प्रति किलो हैं. देसी लहसुन की कीमत 250 रुपये, जबकि पहाड़ी लहसुन की कीमत 320 रुपये पड़ रही है.

इसके अलावा देहरादून के फुटकर बाजार में प्याज का दाम 50 रुपये प्रति किलो है. अगर बात टमाटर की करें, तो टमाटर 60 से 80 रुपये किलो की दर से बिक रहा है. जबकि, दूसरी सब्जियों मटर और शिमला मिर्च के भाव भी तेज हैं. मटर देहरादून की सब्जी मंडी में फुटकर में 70 से 80 रुपये प्रति किलो और इसी दर से शिमला मिर्च भी बिक रही है. हालांकि, लौकी 30 रुपये, तो कद्दू 20 रुपये किलो की कीमत पर बिक रहा है.

यहां सब्जियां उतनी महंगी नही पड़ रही हैं, जितना महंगा उनमें तड़के लिए इस्तेमाल होने वाले लहसुन-प्याज पड़ रहे हैं. दुकानदारों का कहना है कि अधिक बरसात की वजह से लहसुन, टमाटर व प्याज के दाम बढ़े हैं. दूसरा मंडी में आवक भी कम रही है, लेकिन आने वाले दिनों में दाम कम होने की पूरी संभावना है. उन्होंने बताया कि जब मंडी में आवक पूरी हो जाएगी, तो दाम कम होंगे. फिलहाल जिस तरह से इनके दाम बढ़े हैं, ऐसे में आम आदमी ने भी अपनी जरुरत को सीमित कर दिया है.