एक घंटे में नहीं आई एम्बुलेंस तो हाथ ठेले पर मरीज को ले गए अस्पताल, इलाज में देरी से हो गई मौत

लगभग एक घंटे तक 108 और 112 को फोन करके बुलाने का प्रयास करते रहे लोग. जब गाड़ी नहीं आई तो वे बीमार को हाथ ठेले पर ही लेटाकर ले गए अस्पताल.

एक घंटे में नहीं आई एम्बुलेंस तो हाथ ठेले पर मरीज को ले गए अस्पताल, इलाज में देरी से हो गई मौत

दीपचंद्र जोशी/मुरादाबाद: देशभर में चल रहे लॉकडाउन के बीच मुरादाबाद के मुगलपुरा क्षेत्र से एक बेहद मार्मिक खबर सामने आई है. जहां साधन के अभाव में एक व्यक्ति को हाथ ठेले से अस्पताल तक ले जाया गया. लेकिन अस्पताल पहुंचते ही बीमार व्यक्ति की सांसें थम गईं. 

जब लोगों से इसका कारण पूछा तो बताया गया कि लगभग एक घंटे तक 108 और 112 को फोन करके बुलाने का प्रयास करते रहे. जब गाड़ी नहीं आई तो वे बीमार को हाथ ठेले पर ही लेटाकर ले गए. जहां अस्पताल पहुंचते ही डॉक्टरों ने मरीज को मृत घोषित कर दिया. इतना ही मौत के बाद बनसीब व्यक्ति के शव को सरकारी वाहन नहीं मिला. परिजन उसे उसी हाथ ठेले पर लेटाकर वापस घर ले आए. 

दफ्तर में लटका मिला सरकारी कर्मचारी का शव, सुसाइड नोट में लिखा- कोरोना से लग रहा है डर

दरअसल, अमीर हुसैन पैर में चोट लगने के कारण बीमार चल रहा था. उसे शायद सैप्टिक हो गया था, जिसके लिए आस-पड़ोस के लोग उसे अस्पताल ले जाने के लिए 108 और 112 एम्बुलेंस को फोन करते रहे. इस दौरान मरीज की हालात बिगड़ती जा रही थी. जब मदद को कोई गाड़ी नहीं तो पड़ोसियों ने उसे हाथ ठेले पर ही लेटाकर अस्पताल की चल दिए. जहां अस्पताल पहुंचते ही युवक की मौत हो गई. मृतक के घर पर एक छोटी बच्ची है.