बॉर्डर पर तैनात जवान की जमीन बदमाशों ने कब्जाई, तहसील परिसर में दिया धरना, भर आईं आंखें

 एक विशेष वर्ग के 7-8 लोगों ने जवान बृजेश कुमार की जमीन पर कब्जा जमा लिया है और उनकी पत्नी और बच्चे को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. प्रशासन से शिकायत करके हारने के बाद आज बृजेश पत्नी और मासूम बच्चे के साथ अमेठी तहसील में पहुंचे और धरने पर बैठ गए.

बॉर्डर पर तैनात जवान की जमीन बदमाशों ने कब्जाई, तहसील परिसर में दिया धरना, भर आईं आंखें
प्रतीकात्मक फोटो

अमित/अमेठी: जिन जवानों की बॉर्डर पर गश्त के बदौलत हम अपने घरों में चैन से सोते हैं, अगर उनके ही परिवार की सुरक्षा प्रशासन ने कर पाए तो इससे दुर्भाग्यपूर्ण कुछ नहीं होगा. ऐसी ही घटना घटी है अमेठी के गांव में. यहां के निवासी बृजेश खुद भारतीय सेना में सीमा पर ड्यूटी देते हैं और यहां उनकी खून-पसीने से कमाई जमीन पर गांव के ही बदमाशों ने कब्जा जमा लिया है. इतना ही नहीं वे सैनिक के परिवार को मारने की भी धमकी आए दिन देते रहते हैं, लेकिन प्रशासन इस पर चुप्पी साधे है. 

भारतीय सेना के जवान की आंखों से छलके आंसू 
मामला जिले के संग्रामपुर थाना अन्तर्गत कनू केवलापुर गांव का है. गांव निवासी बृजेश कुमार दुबे भारतीय सेना में तैनात है. उन्होंने मीडिया को बताया कि एक से डेढ़ साल पहले मैने एक जमीन बैनामा लिया था. जिसकी सरकारी पैमाइश कराकर अपना छप्पर रखा था. जवान का आरोप है कि एक विशेष वर्ग के 7-8 लोगों ने उनकी जमीन पर कब्जा जमा लिया है और उनकी पत्नी और बच्चे को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. प्रशासन से शिकायत करके हारने के बाद आज बृजेश पत्नी और मासूम बच्चे के साथ अमेठी तहसील में पहुंचे और धरने पर बैठ गए. प्रशासन के कोरे आश्वासन और धमकी से तंग सेना के जवान की आंखें आप बीती सुनाते-सुनाते छलक आईं.

घुमा रहे हैं प्रशासनिक अधिकारी 
भारतीय सैनिक बृजेश का कहना है कि वे डीएम को एप्लीकेशन दे चुके हैं, एसडीएम से दो बार मिल चुके और तीसरी बार फिर यहां मिलने आए. इलाके के एसओ और सीओ से भी उन्होंने मुलाकात की लेकिन हर आश्वासन यही मिला की राजस्व की टीम जाए तभी कब्जा करा पाएंगे. जबकि राजस्व टीम बोलती है जमीनी विवाद के लिए वे सिविल कोर्ट जाएं. अपना दर्द बताते हुए जवान ने कहा कि  वे पाकिस्तान से 500-700 मीटर की दूरी पर बर्फबारी के बीच देश की सुरक्षा के लिए ड्यूटी करते हैं लेकिन उनके परिवार और जमीन की सुरक्षा प्रशासन नहीं कर पा रहा. 

इसे भी पढ़िए : एटा में दर्दनाक हादसा: निर्माणाधीन फ्लाईओवर का हिस्सा गिरने से 2 की मौत, 2 गंभीर घायल

SDM को धरने की कानोंकान खबर भी नहीं 
SDM अमेठी से जब इस संदर्भ में बात की गई तो उन्होंने पूरा मामला वैसा ही बताया जैसा बृजेश बता रहे थे. उन्होंने ये भी कहा कि इस बाबत राजस्व टीम और पुलिस टीम को मौके पर पैमाइश के लिए भेजा जा रहा है. हालांकि तहसील परिसर में जवान के परिवार सहित धरने पर बैठने की बात पर उनका रवैया बिल्कुल गैर जिम्मेदाराना था. एसडीएम योगेंद्र सिंह का कहना था कि उन्हें इस बात की जानकारी ही नहीं हुई.

WATCH LIVE TV