कासगंज हिंसा: चंदन गुप्ता के परिवारवालों को मिले 50 लाख रुपये मुआवजा: AMU के छात्र

1 फरवरी को AMUSU के छात्रों से अलीगढ़ रेंज के आईजी संजीव गुप्ता से मुलाकात के दौरान अलीगढ़ में हुई हिंसा मामले में अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि पिछले दिनों हुई कासगंज हिंसा से वह बेहद नाराज है. 

कासगंज हिंसा: चंदन गुप्ता के परिवारवालों को मिले 50 लाख रुपये मुआवजा: AMU के छात्र
AMU छात्रों ने कासगंज हिंसा के सभी पीड़ितों को उचित मुआवजा देने की मांग की है (फोटो साभार: ANI)

लखनऊ: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMUSU) के छात्रों ने कासगंज हिंसा के मृतक चंदन गुप्ता के परिवारवालों को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग की है. गुरुवार (1 फरवरी) को AMUSU के छात्रों से अलीगढ़ रेंज के आईजी संजीव गुप्ता से मुलाकात के दौरान अलीगढ़ में हुई हिंसा मामले में अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि पिछले दिनों हुई कासगंज हिंसा से वह बेहद नाराज है. समाचार एजेंसी एएनआई से मुलाकात के दौरान AMUSU के छात्रों ने उत्तर प्रदेश पुलिस प्रशासन से चंदन गुप्ता के हत्यारों और हिंसा में जिम्मेदार आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की. 

अन्य पीड़ितों को भी मिलें उचित मुआवजा
समाचा एजेंसी से बातचीत के दौरान AMUSU छात्र नेताओं ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से अपील करते हुए कहा कि चंदन गुप्ता के परिवार वालों को 50 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए. साथ ही चंदन गुप्ता के साथ हिंसा में घायल हुए अन्य पीड़ितों को भी उचित मुआवजा देने की अपील की. बता दें कि पुलिस ने कासगंज हिंसा के मुख्य आरोपी को हिरासत में लेकर जेल भेज दिया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक इसी शख्स ने चंदन गुप्ता पर गोली चलाई थी. हालांकि हिंसा के 2 आरोपी वसीम और नसीम अब भी पुलिस की पहुंच से दूर हैं.

यह भी पढ़ें : ZEE जानकारी: कासगंज हिंसा ने बहुत से Media Houses, पत्रकारों को बेनकाब कर दिया

यह भी पढ़ें : कासगंज हिंसा: डीएम बोले- छत से चली गोली से हुई चंदन की मौत

 

पिता को मिली जान से मारने की धमकी
जी मीडिया से बातचीत के दौरान चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने कहा कि जब वह अपने घर के बाहर बैठे हुए थे, तभी दो बाइक सवार उनके पास आए और कहा 'तुमने पुलिस के पास जाकर अच्छा काम नहीं किया'. सुशील गुप्ता ने कहा कि जब तक वह कुछ समझ पाते तब तक बाइक सवार वहां से फरार हो गए. चंदन के पिता ने कहा कि इस वक्त उन्हें अपने परिवार की सुरक्षा और दूसरे बेटे की चिंता सता रही है.

यह भी पढ़ें : कासगंज हिंसाः चंदन गुप्ता के पिता को मिली धमकी के बाद पुलिस ने बढ़ाई घर की सुरक्षा

गोली लगने से हुई थी चंदन की मौत
26 जनवरी की सुबह कासगंज में ‘वन्देमातरम’और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए हाथों में तिरंगा झंडा लिए कुछ युवा मोटरसाइकिलों से जुलूस निकाल रहे थे. लेकिन जुलूस जैसे ही अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्र बड्डूनगर में पहुंचा तो कुछ उपद्रवी तत्वों ने बाइक सवारों पर पथराव और फायरिंग कर दी. इस फायरिंग में दो युवक अभिषेक गुप्ता उर्फ चन्दन एवं नौशाद घायल हो गए. घायल चंदन को सरकारी अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई.