UP शिक्षा विभाग में कितनी 'अनामिका'? अब संध्या द्विवेदी के नाम पर 4 जिलों में पोस्टिंग

चंदौली जिले के चकिया में स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में शिक्षिका संध्या द्विवेदी ने इस बात की आशंका जताई है कि उनके शैक्षणिक प्रमाण-पत्रों का दुरुपयोग किया गया है. वे कहती हैं कि उनके नाम से अलीगढ़, फिरोजाबाद और फर्रुखाबाद में भी कोई अध्यापिका नौकरी कर रही है. 

UP शिक्षा विभाग में कितनी 'अनामिका'? अब संध्या द्विवेदी के नाम पर 4 जिलों में पोस्टिंग
अनामिका शुक्ला केस में गिरफ्तार फर्जी टीचर

वाराणसी: उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग इन दिनों पूरे देश में सुर्खियां बटोर रहा है. वजह है यहां धड़ाधड़ सामने आ रहा फर्जीवाड़ा. पहले अनामिका शुक्ला के नाम पर सूबे के 25 जिलों में पोस्टिंग मिल गई. हैरानी की बात ये है कि अब शिक्षा विभाग में अनामिका शुक्ला के कई सीक्वल देखने को मिल रहे हैं. इस बार जिस महिला के डॉक्यूमेंट्स के साथ छेड़छाड़ हुई है, उसका नाम संध्या द्विवेदी. ऐसे में सवाल ये है कि यूपी के शिक्षा विभाग में कितनी अनामिका हैं?

संध्या द्विवेदी के नाम पर अनामिका शुक्ला वाला फर्जीवाड़ा 
चंदौली जिले के चकिया में स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में शिक्षिका संध्या द्विवेदी ने इस बात की आशंका जताई है कि उनके शैक्षणिक प्रमाण-पत्रों का दुरुपयोग किया गया है. वे कहती हैं कि उनके नाम से अलीगढ़, फिरोजाबाद और फर्रुखाबाद में भी कोई अध्यापिका नौकरी कर रही है. उनको ये जानकारी मीडिया के जरिये 24 जून को अखबारों के जरिये मिली. संध्या द्विवेदी का दावा है कि फर्जी शिक्षिका के पिता का नाम और बीएड का कॉलेज भी वही दर्ज है, जो उनका है.

जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी भोलेन्द्र प्रताप सिंह को संध्या द्विवेदी नाम की शिक्षिका ने मामले की जानकारी दी है. संध्या दिवेदी ने एक पत्र भी बेसिक शिक्षा अधिकारी के नाम पर लिखा है. जिस पर कार्यवाही करते हुए जिले के बेसिक शिक्षाधिकारी भोलेन्द्र प्रताप सिंह ने फिरोजाबाद फर्रुखाबाद और अलीगढ़ के बीएसए से इस मामले को लेकर बात की है. साथ ही साथ इस बात का भी अनुरोध किया है कि इस पूरे मामले से उन्हें अवगत कराया जाए. ताकि वह भी आगे की कार्यवाही कर सकें। 

इसे भी पढ़िए: UP Board Result 2020: बागपत के इस स्कूल से छात्र हैं 10वीं और 12वीं के टॉपर रिया और अनुराग 

असली संध्या द्विवेदी के दस्तावेज संदिग्ध जिलों में भेजे गए 
बेसिक शिक्षाधिकारी चंदौली भोलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि जिले के चकिया कस्तूरबागांधी आवासीय विद्यालय में दिसंबर 2019 से कार्यरत संध्या दिवेदी के सारे शैक्षणिक अभिलेख उनके कार्यालय में जमा है.  उनके शैक्षणिक डॉक्यूमेंट्स की फोटो कॉपी फर्रुखाबाद, फिरोजाबाद और अलीगढ़ के बीएसए को भेज दी गई है. इन्हीं जिलों में संध्या द्विवेदी के नाम से फर्जी टीचर होने की आशंका है. ऐसे में वहां से जैसी रिपोर्ट आएगी निमानुसार अग्रिम कार्यवाही की जाएगी.

इसे भी देखिए: UP Board Result 2020: मिलिए आगरा की हाईस्कूल टॉपर अंशिका से, प्रदेश टॉपर्स लिस्ट में 5वीं रैंक 

फिरोजाबाद से आ चुका है संध्या द्विवेदी का केस 
फर्जी शिक्षिका संध्या द्विवेदी के छुट्टियों का फायदा उठाकर फिरोजाबाद में ज्वाइनिंग लेकर भी दो और जिलों में नौकरी का मामला पिछले दिनों सामने आ चुका है. फ़िरोज़ाबाद के एका में मौजूद कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में संध्या द्विवेदी ने सिंतबर 2019 में अपनी नियुक्ति ली थी. ज्वाइनिंग के दो महीने बाद ही संध्या द्विवेदी 25 नवंबर 2019 से मैटरनिटी लीव पर चली गई, जिसके बाद वो नौकरी पर नहीं लौटी. फ़िरोज़ाबाद के शिक्षा विभाग ने सैलरी अकाउंट के आधार कार्ड से शिक्षिका के फर्जीवाड़े को उजागर किया. 
ऐसे में चंदौली की संध्या द्विवेदी की शिकायत पर असली और नकली के फर्जीवाड़े का पर्दाफाश हो सकता है.

WATCH LIVE TV