close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आनंदीबेन पटेल बोलीं, ' सिर्फ ज्ञान से ही संभव है नए भारत का निर्माण'

राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा कि सकारात्मक ढंग से सोचने और ज्ञान के पीछे भागने की सीख देने वाले अब्दुल कलाम नाकामी को पहली सीढ़ी कहते थे.

आनंदीबेन पटेल बोलीं, ' सिर्फ ज्ञान से ही संभव है नए भारत का निर्माण'
राज्यपाल आनंदीबेन ने यहां डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के 17वें दीक्षान्त समारोह में अपने विचार व्यक्त किए.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel) ने बुधवार को यहां कहा कि ग्रामीण विकास के लिए विश्वविद्यालय द्वारा गांव गोद लेने की योजना एक सराहनीय कदम है, और परमार्थ के माध्यम से समाज के पिछड़े जनों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने का प्रयास अनूठा है. 

राज्यपाल आनंदीबेन ने यहां डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के 17वें दीक्षान्त समारोह में छात्र-छात्राओं को मेडल व उपाधि प्रदान करने के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रही थीं. उन्होंने कहा कि शिक्षा की मुख्यधारा से वंचित बालक-बालिकाओं को विश्वविद्यालय के संस्थान आईईटी लखनऊ के छात्र-छात्राओं द्वारा वंचितों के लिए परमार्थ नाम से सायंकालीन कक्षाएं संचालित कर झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले पिछड़े जनों को मुख्यधारा से जोड़ने का अनूठा प्रयास हो रहा है.

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने प्रतिबद्घता से कार्य करते हुए यूनिवर्सिटी इंडस्ट्री इंटरफेस सेल की स्थापना की है. इसके माध्यम से कैम्पस प्लेसमेंट के द्वारा पिछले 11 माह में 20 हजार से अधिक रोजगार के अवसर प्रदान कराए गए हैं.

लाइव टीवी देखें

इस दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बाल विवाह के खिलाफ कहा कि मैंने अपने भाई के बेटे का बाल विवाह होने से रोका था. उनके खिलाफ पुलिस में गई थी. बाल विवाह रुक गया, मगर मेरे भाई ने पांच साल तक हमें अपने घर नहीं बुलाया.

उन्होंने छात्र-छात्राओं से कहा कि जो ज्ञान उन्होंने यहां से अर्जित किया है, उसे समाज की सेवा में तथा नए भारत के निर्माण में लगाएंगे. उन्होंने कहा कि सकारात्मक ढंग से सोचने और ज्ञान के पीछे भागने की सीख देने वाले अब्दुल कलाम नाकामी को पहली सीढ़ी कहते थे.

(इनपुट- आईएएनएस)