अंकित शर्मा की अंतिम यात्रा: राम नाम सत्य की जगह लोगों ने की CAA-NRC के सपोर्ट में नारेबाजी

केंद्रीय मंत्री, डीएम, एसएसपी समेत तमाम आला अधिकारियों ने उन्हें सलामी दी. भाई अंकुर शर्मा ने अंकित शर्मा के पार्थिव देह को मुखाग्नि दी. 

अंकित शर्मा की अंतिम यात्रा: राम नाम सत्य की जगह लोगों ने की CAA-NRC के सपोर्ट में नारेबाजी
अंतिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब

अंकित मित्तल/ मुजफ्फरनगर: दिल्ली CAA हिंसा के शिकार हुए IB कांस्टेबल अंकित शर्मा का उनके पैतृक गांव इटावा में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ. दिल्ली से उनका पार्थिव शरीर शाम को घर पहुंचा. जहां लोगों ने उनके अंतिम दर्शन किए. इसके बाद पार्थिव शरीर को सैकड़ों लोगों ने नम आंखों से विदा किया. उनकी अर्थी को कंधा देने के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा. केंद्रीय मंत्री, डीएम, एसएसपी समेत तमाम आला अधिकारियों ने उन्हें सलामी दी. भाई अंकुर शर्मा ने अंकित शर्मा के पार्थिव देह को मुखाग्नि दी. 

अर्थी ले जाते हुए लोगों ने CAA और NRC के पक्ष में नारेबाजी की. साथ ही अंतिम यात्रा में लोग CAA व NRC के पक्ष में नारेबाजी कर रहे थे. इतना ही नहीं नम आंखों के साथ ग्रामीण भारत माता की जय के नारे भी लगा रहे थे. केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान व भारी पुलिस बल अंतिम यात्रा में शामिल हुआ.

LIVE TV

शहीद अंकित शर्मा मुजफ्फरनगर के बुढाना थाना क्षेत्र के इटावा गांव के रहने वाले थे. एडीएम अमित कुमार ने जानकारी दी कि अंकित शर्मा दिल्ली आईबी में कार्यरत थे. अंकित मंगलवार शाम से लापता थे, उसके पिता रविंदर शर्मा भी आईबी में कार्यरत हैं.

अंकित शर्मा के परिवार में मातम का माहौल है. बेटे के जाने की खबर सुनकर अंकित की मां का रो-रोकर बुरा हाल है. बेटे की मौत से बेहद दुखी मां ने कहा कि उन्होंने अंकित को घर में ही रुकने के लिए कहा था. मां ने चाय पीने के लिए अंकित को रोकना चाहा लेकिन वह दूसरों को बचाने बाहर चला गए. मां के मुताबिक, उपद्रवियों ने उनके बेटे को घसीटा और मार डाला.

कौन हैं अंकित शर्मा जो दिल्ली हिंसा के शिकार हो गए?