close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुलायम के बाद बहू अपर्णा ने भी शिवपाल के साथ मंच साझा किया, कहा-चाचाजी हमारे चहेते नेता

मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने शिवपाल के साथ मंच साझा किया, जिसके बाद सियासी हलचल बढ़ गई है.

मुलायम के बाद बहू अपर्णा ने भी शिवपाल के साथ मंच साझा किया, कहा-चाचाजी हमारे चहेते नेता
अपर्णा यादव ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि माननीय चाचा जी हमारे चहेते नेता हैं.

लखनऊ: लखनऊ में राष्ट्रीय क्रांतिकारी समाजवादी पार्टी का 15वां स्थापना दिवस मनाया गया, लेकिन यहां जो तस्वीर दिखी वह अखिलेश यादव को बड़ा झटका देने वाली थी. यहां शिवपाल यादव और अपर्णा यादव एक मंच पर दिखे. दोनों एक-दूसरे बात करते नजर आए. अपर्णा यादव ने अपने संबोधन में कहा कि वह चाहती हैं कि सेकुलर मोर्चा आगे बढ़े और मोर्च से लोग इसी तरह जुड़ते रहें. अपर्णा यादव मुलायम सिंह छोटे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं और पिछली बार लखनऊ कैंट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ी थीं.

मुलायम  सिंह के बाद अपर्णा यादव द्वारा शिवपाल के साथ मंच साझा करने से यूपी की सियासत में हलचल बढ़ गई है. अपर्णा यादव ने लोगों के संबोधित करते हुए कहा कि माननीय चाचा जी हमारे चहेते नेता हैं. नेताजी (मुलायम सिंह) के बाद मैंने इन्हीं को सबसे ज्यादा माना है. उन्होंने कहा कि मैं चाहती हूं कि सेक्युलर मोर्चा आगे बढ़े. उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि चुनाव में अच्छे लोगों को चुनकर लाइए.

Aparna Yadav and Shivpal Singh Yadav
शिवपाल ने दावा किया कि कार्यक्रम में 24 राजनीतिक दल शामिल हुए हैं.

बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि भारत में क्या हो रहा है सब जानते हैं. आज भारत में किसान मर रहे हैं, जवान मर रहे हैं. अगर, हमें अपने बेटों को ऐसे ही शहीद करना है तो इससे अच्छा है कि खड़ा करके उनको गोली मार दें. 

वहीं, शिवपाल यादव नें इस कार्यक्रम में शामिल 24 राष्ट्रीय पार्टियों के साथ करीब 50 और पार्टियों के संपर्क में होने का दावा किया. शिवपाल यादव ने कहा कि किसानों, नौजवानों और मुसलमानों के साथ मजदूरों की समस्याओं को दूर करेंगे. उन्होंने बीजेपी के साथ हाथ मिलाने वाली बातों पर भी पूर्ण विराम लगा दिया.

Aparna Yadav
शिवपाल ने कहा कि उनका सीधा मुकाबला बीजेपी से है.

उन्होंने अपनी बात के अंत में कहा कि उनका सीधा-सीधा मुकाबला भारतीय जनता पार्टी से है. आपको बता दें इससे पहले शुक्रवार (12 अक्टूबर) को राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि पर लोहिया ट्रस्ट में आयोजित कार्यक्रम में मुलायम सिंह यादव ने भाई शिवपाल के साथ मंच साझा किया था.