close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अपने बयान से पलटीं अपर्णा यादव, कहा- राम मंदिर आस्था का केंद्र, लेकिन कोर्ट का भी सम्मान

अपर्णा यादव ने कहा कि मेरे कहने से राम मंदिर का निर्माण तो नहीं हो जाएगा. इसलिए, मेरे बयान पर विवाद नहीं होना चाहिए.

अपने बयान से पलटीं अपर्णा यादव, कहा- राम मंदिर आस्था का केंद्र, लेकिन कोर्ट का भी सम्मान
मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव.

लखनऊ: राम मंदिर को लेकर मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव अपने दिए गए बयान पर सफाई दी है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर आस्था का विषय है, इसलिए मेरे बयान पर किसी तरह का विवाद नहीं होना चाहिए. अपर्णा यादव ने कहा कि राम मंदिर आस्था का केंद्र है, लेकिन कोर्ट का भी सम्मान है. इसलिए, इस मामले में फैसला कोर्ट को ही देना है. बता दें, अपर्णा यादव ने कहा था कि अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि है और वहां राम का मंदिर ही बनना चाहिए,

अपर्णा यादव ने कहा कि मेरे कहने से राम मंदिर का निर्माण तो नहीं हो जाएगा. रामायण से लेकर सभी जगहों पर लिखा हुआ है कि राम क्या हैं और उनका जन्म कहां हुआ है. इसलिए, मैंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए. उन्होंने कहा कि मुझे कोर्ट के फैसले पर पूरा यकीन है.

वह गुरुवार को बाराबंकी के देवा शरीफ में थीं. इसी दौरान पत्रकारों से बात करते हुए अपर्णा ने ये बात कही. उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी या किसी और के साथ नहीं हूं. मैं राम के साथ हूं. आपको बता दें कि मुलायम सिंह के राज में कारसेवकों पर गोलियां चलाई गई थी. 

चाचा शिवपाल यादव की समाजवादी सेक्युलर मोर्चा को समर्थन को लेकर अपर्णा ने कहा कि मैं वर्तमान में समाजवादी पार्टी की पूर्ण कालिक सदस्य हूं. जब कभी मैं किसी और पार्टी में शामिल होउंगी तो आप सभी को जानकारी मिल जाएगी.

अपर्णा यादव ने कहा है कि शिवपाल के अलग पार्टी बनाने से इसका असर 2019 के लोकसभा चुनावों पर भी पड़ेगा. अगर शिवपाल की पार्टी से मौका मिला तो चुनाव भी लडूंगी. उन्होंने कहा कि पारिवारिक खींचतान के चलते 2017 का चुनाव प्रभावित हुआ था और 2019 के चुनाव में भी इसका असर जरूर पड़ेगा, क्योंकि चाचा जी का भी पार्टी को मजबूत करने में कम योगदान नहीं रहा है.