close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अपर्णा यादव ने मायावती पर कसा तंज, 'जो सम्मान पचाना नहीं जानता, अपमान भी नहीं पचा पाता'

महागठबंधन को लेकर जहां विपक्षी दल तंज कस रहे हैं, वहीं यादव परिवार की छोटी बहू अपर्णा यादव ने भी ट्वीट कर मायावती पर निशाना साधा है. 

अपर्णा यादव ने मायावती पर कसा तंज, 'जो सम्मान पचाना नहीं जानता, अपमान भी नहीं पचा पाता'
मुलायम की छोटी बहू ने अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल के बीच विवाद में शिवपाल का समर्थन किया था.

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) से पहले उत्तर प्रदेश में  बीजेपी के हराने के लिए तैयार हुआ समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का महागठबंधन, चुनाव नतीजों के आने के बाद सोमवार (03 मई) को मायावती के उस बयान के बाद सपा नेताओं के बीच हलचल बढ़ गई, जिसमें उन्होंने कहा कि चुनाव में यादवों के वोट नहीं मिले हैं. इसलिए यूपी में होने वाले उपचुनाव में बीएसपी अपने दम पर चुनाव लड़ेगी. महागठबंधन को लेकर जहां विपक्षी दल तंज कस रहे हैं, वहीं यादव परिवार की छोटी बहू अपर्णा यादव ने भी ट्वीट कर मायावती पर निशाना साधा है. अपर्णा ने लिखा है, 'जो सम्मान पचाना नहीं जानता वह अपमान भी नहीं पचा पाता है'. 

Aparna Yadav tweet and target BSP Supremo Mayawat

मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने ट्वीट किया, 'समाजवादी पार्टी के बारे में मायावती जी का रुख जानकर बहुत दुख हुआ. शास्त्र में कहा गया है जो सम्मान पचाना नहीं जानता वह अपमान भी नहीं पचा पाता.'  मुलायम की छोटी बहू ने अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल के बीच विवाद में शिवपाल का समर्थन किया था. पार्टी से अलग होने के बाद भी उन्होंने खुले आम शिवपाल का सपॉर्ट किया. 

वहीं, लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन की हार के बाद नाराज चल रहीं बीएसपी सुप्रीम मायावती मंगलवार (04 मई) प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वालीं हैं. ऐसा बताया जा रहा है कि मायावती आज सपा के साथ अपने गठबंधन को लेकर बड़ा ऐलान कर सकती है. 

लाइव टीवी देखें

 

सोमवार को बीएसपी की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन पर क्षेाभ व्यक्त करते हुये पार्टी के पदाधिकारियों से ‘गठबंधनों’ पर निर्भर रहने के बजाय अपना संगठन मजबूत करने का निर्देश दिया था. मायावती ने आगामी उपचुनाव भी बसपा द्वारा अपने बलबूते लड़ने की बात कह कर भविष्य में गठबंधन नहीं करने का संकेत दिया थे.