close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

SC का फैसला आने से पहले साक्षी महाराज की भविष्यवाणी, '6 दिसंबर से शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण'

साक्षी महाराज नमे कहा कि चार हफ्ते में जो निर्णय आएगा, वो भगवान राम के पक्ष में ही आएगा. 

SC का फैसला आने से पहले साक्षी महाराज की भविष्यवाणी, '6 दिसंबर से शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण'
सांसद साक्षी महाराज ने इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की भी तारीफ की.

उन्नाव: भाजपा नेता और उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने घोषणा की है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण छह दिसंबर से शुरू हो जाएगा. संयोग से छह दिसंबर वह तारीख है, जब 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया था. इसके साथ ही साक्षी महाराज ने कहा कि सारे विश्व की और हिंदुस्तान के सभी धर्माचार्यों की निगाहें और मैं तो कहूंगा कि देवी-देवताओं की भी निगाहें माननीय सुप्रीम कोर्ट के ऊपर थीं. उन्होंने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड ने पहले ही कह दिया था. सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी जो फैसला लिया है, इसके लिए सभी मुस्लिम भाइयों का धन्यवाद करता हूं. 

साक्षी महाराज नमे कहा कि चार हफ्ते में जो निर्णय आएगा, वो भगवान राम के पक्ष में ही आएगा. उन्होंने कहा कि ऊपर भगवान है और धरती पर जज भगवान हैं, तो नीचे वाले भगवान, ऊपर वाले भगवान के पक्ष में ही फैसला करेंगे. उन्होंने कहा कि अयोध्या में दो दिवाली मनाई जाएंगी. उन्होंने कहा कि एक दिवाली प्रभु श्रीराम के आने पर मनाई जाती है. दूसरी भगवान राम के पक्ष में आने वाले फैसले पर मनाई जाएगी. 

लाइव टीवी देखें-:

सांसद साक्षी महाराज ने इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की भी तारीफ की. उन्होंने कहा कि अयोध्या के मसले को लोगों ने उलझा कर रखा था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने जैसे चुटकियों में जम्मू कश्मीर का समाधान कर दिया. उसी तरह मंदिर पर फैसला आने के बाद एक पत्ता तक नहीं हिलेगा. उन्होंने कहा कि हिंदू और मुसलमान सब इसका स्वागत करेंगे. 

इसके साथ ही साक्षी महाराज ने कहा, "यह तर्कसंगत है कि मंदिर का निर्माण उसी तारीख को शुरू होना चाहिए, जब ढांचा गिराया गया था." साक्षी महाराज ने कहा, "यह सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों के कारण साकार होने जा रहा है." उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण में मदद के लिए हिंदू और मुस्लिमों को एक साथ आना चाहिए. उन्होंने कहा, "सुन्नी वक्फ बोर्ड को इस तथ्य को स्वीकार करना चाहिए कि बाबर एक हमलावर था और उनका पूर्वज नहीं था."