close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या केस: ऐशबाग ईदगाह पर उठे दुआ के हाथ, मौलामा ने मुल्क में की अमन की अपील

अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले के मद्देनजर इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया ने सभी से कोर्ट के फैसले पर अमन, चैन और भाईचारे की अपील की. मौलाना खालिद रशीद ने जुमे की नमाज से पहले सभी से शांति की अपील की.

अयोध्या केस: ऐशबाग ईदगाह पर उठे दुआ के हाथ, मौलामा ने मुल्क में की अमन की अपील
नमाज अदा करते नमाजी. (फाइल फोटो)

लखनऊ: अयोध्या विवाद (Ayodhya Dispute) में फैसले से पहले आज (01 नवंबर) लखनऊ (Lucknow) की ऐशबाग में अमन के लिए दुआ की गई. ऐशबाग ईदगाह में जुमे की नमाज में मुल्क में शांति और चैन के लिए लोगों ने दुआ पढ़ी. अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आने वाले फैसले के मद्देनजर इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया ने सभी से कोर्ट के फैसले पर अमन, चैन और भाईचारे की अपील की. मौलाना खालिद रशीद ने जुमे की नमाज से पहले सभी से शांति की अपील की.

अयोध्या मसले पर  ही लखनऊ ऐशबाग ईदगाह के इमाम ने बयान जारी किया है. इमाम ने तमाम मुसलमानों से सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले पर शांति बनाए रखने की अपील की है. इमाम ने कहा कि देश के क़ानून और इंसाफ पर पूरी तरह से यकीन रखें जो भी फैसला आये उसका सभी लोग सम्मान करें. 

उन्होंने कहा कि फैसले पर जश्न मनाने और नारेबाजी करने से भी परहेज करें. अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले को लेकर भारत ही नहीं तमाम देशों में रहने वाले लोगों की भी निगाहें टिकी हुई हैं. इस मसले पर बहुत जल्द सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुना सकती है. इसलिए किसी भी प्रकार का विरोध प्रदर्शन या नारेबाजी न करें. 

लाइव टीवी देखें

 

आपको बता दें कि इससे पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने लोगों से अपील की है कि राम जन्मभूमि मामले में सर्वोच्च न्यायालय  का जो भी फैसला आए, वे उसे शांतिपूर्वक स्वीकार करें. सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर 17 नवंबर से पहले फैसला सुना सकता है. इसी दिन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अपने पद से सेवानिवृत्त होंगे.

एआईएमपीएलबी के सदस्य मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कहा कि सभी लोगों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करना चाहिए और स्वीकार करना चाहिए. उन्होंने मुस्लिम समुदाय से कहा है कि यदि फैसला उनकी उम्मीदों पर खरा नहीं भी उतरता है तो भी वे किसी भी प्रकार का विरोध प्रदर्शन या नारेबाजी न करें.