close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्‍या केस: SC में सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ा नक्‍शा, CJI हुए नाराज

अयोध्‍या केस की 40वें दिन सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने बेहद आपत्तिजनक व्यवहार दिखाया और हिंदू पक्ष के वकील विकास सिंह द्वारा कोर्ट के सामने पेश किए गए नक़्शे की कापियां फाड़ दीं.

अयोध्‍या केस: SC में सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ा नक्‍शा, CJI हुए नाराज

नई दिल्‍ली: अयोध्‍या केस (Ayodhya Case) की 40वें दिन सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने बेहद आपत्तिजनक व्यवहार दिखाया और हिंदू पक्ष के वकील विकास सिंह द्वारा कोर्ट के सामने पेश किए गए नक़्शे की कापियां फाड़ दीं. दरअसल हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने विवादित जगह पर मन्दिर की मौजूदगी साबित करने के लिए पूर्व IPS किशोर कुणाल की एक किताब "Ayodhya Revisited' का हवाला  देना चाहा. राजीव धवन ने इसे रिकॉर्ड का हिस्सा नहीं बताकर विरोध किया.

विकास सिंह ने इसके बाद एक नक्शा रखा और उसकी कॉपी राजीव धवन को दी. धवन ने इसका भी विरोध करते हुए अपने पास मौजूद नक्शे की कॉपी फाड़ना शुरू कर दी. चीफ जस्टिस ने धवन के इस तरीके पर नाराजगी के अंदाज़ में कहा- आप चाहे तो पूरे पेज फाड़ सकते हैं. चीफ जस्टिस ने इस तौर-तरीके पर आपत्ति जताते हुए कहा कि अगर इसी तरह का माहौल जारी रहा तो वह अभी सुनवाई पूरी कर देंगे और फिर जिस भी पक्ष को जो दलील देनी होगी वह लिखित में लेंगे.

अयोध्‍या केस- बस बहुत हुआ...आज शाम 5 बजे हर हाल में बहस पूरी होगी: CJI

इससे पहले रामलला विराजमान के सीएस वैद्यनाथन ने अपनी जिरह में कहा कि पैग़ंबर मोहम्मद ने कहा था कि किसी को मस्ज़िद उसी ज़मीन पर बनानी चाहिए जिसका वह मालिक है. सुन्नी वक्फ बोर्ड जगह पर मालिकाना हक साबित करने में नाकाम रहा और सिर्फ नमाज़ पढ़ने को आधार बना कर ज़मीन दिए जाने की मांग कर रहा है. अयोध्या मामले में पहले याचिकाकर्ता रहे स्वर्गीय गोपाल सिंह विशारद की तरफ से वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने कहा कि इमारत में मूर्ति रखने का केस अभिराम दास पर दर्ज हुआ. वही वहां पुजारी थे. वह निर्वाणी अखाड़ा के थे. सेवादार होने का निर्मोही अखाड़ा का दावा गलत है.

https://attachments.office.net/owa/atul.chaturvedi@zeemedia.esselgroup.com/service.svc/s/GetAttachmentThumbnail?id=AAMkADdhMWRiY2EyLTRlYWEtNGFjNC1hODYyLWJkNjlkMGI1YzNhZQBGAAAAAABgwRuE%2BtEXT7QDhDIi27UTBwCeY3KV053RTLXkqS0NIv7PAAAAAAEMAACeY3KV053RTLXkqS0NIv7PAAIHADM1AAABEgAQAG0PUX93X%2B5Pj52l4PTVdY4%3D&thumbnailType=2&owa=outlook.office.com&scriptVer=2019100701.09&X-OWA-CANARY=H81WuaCbqk2ToU9ecMam08DFgCgjUtcYg7Hd12FwuMR2JTfxZepqGjXsoAhnHS53AUmwLKflbWM.&token=eyJhbGciOiJSUzI1NiIsImtpZCI6IjA2MDBGOUY2NzQ2MjA3MzdFNzM0MDRFMjg3QzQ1QTgxOENCN0NFQjgiLCJ4NXQiOiJCZ0Q1OW5SaUJ6Zm5OQVRpaDhSYWdZeTN6cmciLCJ0eXAiOiJKV1QifQ.eyJvcmlnaW4iOiJodHRwczovL291dGxvb2sub2ZmaWNlLmNvbSIsInZlciI6IkV4Y2hhbmdlLkNhbGxiYWNrLlYxIiwiYXBwY3R4c2VuZGVyIjoiT3dhRG93bmxvYWRAZDk0NTRhNDQtMDFmNi00ZmE5LTlhZDEtMTVlZTczYjFiODBkIiwiaXNzcmluZyI6IldXIiwiYXBwY3R4Ijoie1wibXNleGNocHJvdFwiOlwib3dhXCIsXCJwcmltYXJ5c2lkXCI6XCJTLTEtNS0yMS00MDE2MjE1ODcyLTQwNTY1NTQ4MjEtMTMwMjM3NjI5MC0xNjAzMjcyM1wiLFwicHVpZFwiOlwiMTE1MzgzNjI5NjczNzc2MDIyNlwiLFwib2lkXCI6XCI3YmJmZTkwZS1mMjQ1LTRmMmYtYWZkMS1mOTBhMmYyMTJlZDdcIixcInNjb3BlXCI6XCJPd2FEb3dubG9hZFwifSIsIm5iZiI6MTU3MTIyMTQ4MiwiZXhwIjoxNTcxMjIyMDgyLCJpc3MiOiIwMDAwMDAwMi0wMDAwLTBmZjEtY2UwMC0wMDAwMDAwMDAwMDBAZDk0NTRhNDQtMDFmNi00ZmE5LTlhZDEtMTVlZTczYjFiODBkIiwiYXVkIjoiMDAwMDAwMDItMDAwMC0wZmYxLWNlMDAtMDAwMDAwMDAwMDAwL2F0dGFjaG1lbnRzLm9mZmljZS5uZXRAZDk0NTRhNDQtMDFmNi00ZmE5LTlhZDEtMTVlZTczYjFiODBkIn0.nwLLcOhptv8FNAZGfIJTzPt7_WwCvF-EGLCI2gfBRcE4BdLwagCiUWVriWg6aQGjHPcUl8uxeLqsE0yDaVASwhP0TzQNyMfNYw4dJomlR0TY6n1j6OhS_OZ_JwvEnxgBZczBSxbymJs57k1XkqX6Pxr9kujLjoRePwWSDfvF3w74DFeuRMWC-vBKm4LFr_CWwYMkSfmNXYM9EoyXxGBOs2BbqZPWoUMSIiyb905-LlWp35bsvkbKCcWzySRKfjtDpz1Note3DbNKtobsCm23nwt7vbUttis67Zeayug97HRYLasXv8ciI55cadg7TcaOTpzoUFYwZ73ZFOe5QCFBrg&animation=true
जिस नक्‍शे को राजीव धवन ने फाड़ा.

BIG BREAKING- सुप्रीम कोर्ट से अयोध्‍या केस वापस लेगा सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड, विवादित जमीन पर छोड़ेगा कब्‍जा

इससे पहले जब आज सुनवाई शुरू हुई तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने स्‍पष्‍ट किया कि किसी नए दस्‍तावेज पर विचार नहीं किया जाएगा. दरअसल हिंदू महासभा की हस्‍तक्षेप संबंधी एप्‍लीकेशन को खारिज करते हुए मुख्‍य न्‍यायाधीश ने कहा कि हर हाल में आज शाम 5 बजे तक इस मामले में सुनवाई खत्‍म हो जाएगी. बस बहुत हुआ...

इस बीच सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट से अयोध्‍या केस (Ayodhya Case) वापस लेने का फैसला लिया है. बोर्ड के चेयरमैन ने मुकदमा वापस लेने का हलफनामा मध्यस्थता पैनल के सदस्य श्रीराम पंचू को भेजा. इसके बाद मध्‍यस्‍थता पैनल ने सेटलमेंट दस्‍तावेज सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर दिया है. इस बीच सुप्रीम कोर्ट में अयोध्‍या मामले की 40वें दिन की सुनवाई शुरू हो गई है. हालांकि सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के अपील वापस लेने के मामले में कोर्ट में कोई चर्चा नहीं हुई. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने स्‍पष्‍ट किया कि आज शाम 5 बजे तक हर हाल में बहस पूरी होगी. चीफ जस्टिस ने तय पक्षकारों के अतिरिक्‍त किसी अन्‍य को हस्‍तक्षेप की अनुमति देने से इनकार कर दिया.

मध्यस्थता पैनल ने SC में सेटलमेंट दस्‍तावेज दाखिल किया, मुस्लिम पक्ष छोड़ेगा कब्‍जा

परासरन ने कहा कि हिन्‍दुओं ने भारत के बाहर जाकर किसी को तहस-नहस नहीं किया बल्कि बाहर से लोगों ने भारत में आकर तबाही मचाई, हमारी प्रवृत्ति अतिथि देवो भव की है. परासरन ने कहा कि हिंदुओं की आस्था है कि वहां पर भगवान राम का जन्म हुआ था, और मुस्लिम कह रहे है कि मस्जिद उनके लिए हैरिटेज प्लेस है.

परासरन ने कहा कि मुस्लिम दूसरी मस्जिद में नमाज पढ़ सकते हैं. अयोध्या में 50-60 मस्जिदें है, लेकिन हिंदुओं के लिए यह भगवान राम का जन्म स्थान है. हम भगवान राम के जन्म स्थान को नहीं बदल सकते. परासरन ने कहा कि हिन्‍दुओं ने भगवान राम के जन्म स्थान के लिए एक लंबी लड़ाई लड़ी है. हमारी सदियों से आस्था है कि वह भगवान राम का जन्म स्थल है.

परासरन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को अयोध्या में मस्जिद बनाने के लिए मंदिर को नष्ट करने के ऐतिहासिक गलत काम को रद्द करना चाहिए. परासरन ने कहा कि कोई शासक भारत में आकर ये नहीं कह सकता कि मैं सम्राट बाबर हूं और कानून मेरे नीचे है और जो मैं कहता हूं वो ही कानून है.

यह वीडियो भी देखें -