close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या पर फैसले से पहले देवबंदी मौलानाओं की अपील, सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सभी दिल से मानें

देवबन्दी आलीमों ने सभी देशवासियों खासतौर से मुस्लिम समुदाय के लोगों से यह अपील की है कि, वे अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले को मानें और कोई व्यक्ति अगर किसी तरह का फसाद करने की कोशिश करे तो उसकी सूचना तुरन्त प्रशासन को दें.

अयोध्या पर फैसले से पहले देवबंदी मौलानाओं की अपील, सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सभी दिल से मानें

सहारनपुरः अयोध्या मामले का फैसला जल्द आने वाला है. इसको लेकर जहां प्रशासन पूरी तरीके से मुस्तैद दिखाई दे रहा है. वहीं इस मुद्दे को लेकर देवबन्दी आलीमों ने सभी देशवासियों खासतौर से मुस्लिम समुदाय के लोगों से यह अपील की है कि, वे अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले को मानें और कोई व्यक्ति अगर किसी तरह का फसाद करने की कोशिश करे तो उसकी सूचना तुरन्त प्रशासन को दें. उन्होंने कहा कि हम तो पहले से यह कहते आ रहे हैं कि हम तो कोर्ट के फैसले को मानेंगे और जो भी कोर्ट का फैसला आएगा हम उसका स्वागत करेंगे. 

देवबन्दी आलीम मुफ्ती इसरार गोरा ने कहा कि 'अयोध्या का जो मामला है उस पर 15 तारीख को फैसला आना है. मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि इस फैसले का सभी लोगों को इंतजार था. हमने पहले भी कहा था और अब भी कह रहे हैं कि जो फैसला कोर्ट का होगा वही मुसलमानों को मंजूर होगा. हमारे लिए कोर्ट माननीय है .मैं तमाम कम्यूनिटी के लोगों से अपील करता हूं कि कोर्ट का जो भी फैसला है किसी भी पक्ष के लिए आए उसे कबूल करना हमारा फर्ज बनता है.'

मुस्लिम अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करें : AIMPLB

उन्होंने आगे कहा कि, 'मैं खासतौर पर मुसलमानों से अपील करता हूं कि कोर्ट का जो भी फैसला है उसे कबूल करें और इत्मीनान से काम लें. जो मोहब्बत-प्यार हिंदुस्तान की पहचान है वह कायम रहनी चाहिए. अगर कोई विवाद पैदा करने की कोशिश करे तो उसके बारे में प्रशासन को तुरंत जानकारी दें और माहौल को खराब न होने दें. मैं तमाम लोगों से अपील करता हूं कि वह देश की शांति व्यवस्था भंग न होने दें.'

देखें LIVE TV

वहीं इस मुद्दे पर देवबन्दी आलीम मुफ्ती अहमद गोड ने भी देश के तमाम लोगों से अपील की है कि 'अयोध्या मुद्दे पर वह कोर्ट के फैसले को मानें. इसके अलावा उन्होंने देशवासियों को प्यार-मोहब्बत से रहने की बात कही है. उन्होंने कहा कि मैं देश के तमाम मुसलमानों से अपील करना चाहूंगा कि देश का ऐतिहासिक फैसला आने वाला है. देश में प्यार मोहब्बत बरकरार है. हिंदुस्तान एक ऐसा मुल्क है, जहां सबसे बड़ी जम्हूरियत है. इसकी हिफाजत करने की जिम्मेदारी तमाम लोगों की है.'

अयोध्या जमीनी विवाद मामले पर दो धड़ों में बंटी कांग्रेस, सीनियर नेताओं ने दिए बयान

अहमद गोड ने आगे कहा कि, 'चाहे वह किसी भी मजहब का हो . सुप्रीम कोर्ट के फैसले का एहतराम करें और उसे दिल से इस फैसले को मानने और इसे अपनाने की कोशिश करें, क्योंकि जो प्यार मोहब्बत एकता हमारे देश में है पूरी दुनिया में यह एक मिसाल के तौर पर मानी जाती है. इसलिए इसकी हिफाजत करने कि हमारे सभी देशवासियों की जिम्मेदारी बनती है. क्योंकि यह प्यार मोहब्बत एक हमारी धरोहर है.'