close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लखनऊ: भीम आर्मी चीफ बोले, 'कांग्रेस दलित हितैषी है तो मायावती को PM बनवाने में मदद करे'

मायावती द्वारा बीजेपी के हाथों खेलने वाले आरोपों पर चंद्रशेखर ने कहा कि वे बहुजन समाज की सबसे बड़ी नेता हैं. उन्हें गुमराह किया गया है कि हम समाज को बांट रहे हैं. 

लखनऊ: भीम आर्मी चीफ बोले, 'कांग्रेस दलित हितैषी है तो मायावती को PM बनवाने में मदद करे'
उन्होंने कहा कि भीम आर्मी सामाजिक आंदोलन चला रही है. (फाइल फोटो)

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए विपक्षी महागठबंधन की बात कह रही है. हालांकि, खबरें हैं कि गठबंधन में पड़ी गांठ सुलझने का नाम नहीं ले रही है. सोमवार (26 नवंबर) भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने लखनऊ में मीडिया से बातचीत की. इस दौरान महागठबंधन पर कांग्रेस को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि अगर वह दलित हितैषी होने का दवा करती है तो 2019 में गठबंधन करके देश का नेतृत्व बसपा सुप्रीमो मायावती को क्यों नहीं सौंप देती. उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस दलित हितैषी है तो फिर उसे बहन जी को प्रधानमंत्री बनवाने में मदद करनी चाहिए. चंद्रशेखर ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी को हमारे पूर्वज कांशीराम ने बनाया था. मैं आज उन्हीं के बताए आदर्शों पर चल रहा हूं. हालांकि मुझको तोड़ने के लिए मुकदमों में फंसाने की कोशिश की जा रही है.

ये भी पढ़ें: 2019 में चुनाव नही लड़ेगी भीम आर्मी, कांशीराम के दिखाए रास्ते पर काम करूंगाः चंद्रशेखर

मायावती द्वारा बीजेपी के हाथों खेलने वाले आरोपों पर चंद्रशेखर ने कहा कि वे बहुजन समाज की सबसे बड़ी नेता हैं. उन्हें गुमराह किया गया है कि हम समाज को बांट रहे हैं. भीम आर्मी सामाजिक आंदोलन चला रही है. इससे किसी को डरने की जरूरत नहीं है. नाम के साथ 'रावण' का नाम जोड़ने और हटाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरे मतदाता पहचान पत्र पर रावण नहीं लिखा है.

अयोध्या में हुई वीएचपी के घर्म-सभा के ठीक एक दिन बाद भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर भी अयोध्या पहुंचे. अयोध्या में डीएम को ज्ञापन दिया और वापस लखनऊ लौट आए. अयोध्या से लौटने के बाद मीडिया से मुखातिब, भीम आर्मी चीफ चंद्र शेखर ने कहा कि भीम आर्मी को लगातार अयोध्या मामले को लेकर धमकी मिल रही थी. अयोध्या से भी बड़ी संख्या में लोग उन्हे लगातार फोन कर बुला रहें थे. वो लोग खौफ में थे लिहाजा आज मैं अयोध्या गया. वहां के बहुजन समाज के लोगों से मुलाकात की और उसके बाद डीएम और एसएसपी से भी मुलाकात किया. फैजाबाद के लोगों की सुरक्षा को लेकर डीएम को एक ज्ञापन भी दिया.

क्या भीम आर्मी 2019 के लोक-सभा चुनाव में चुनावी मैदान में उतरेगी ? इस सवाल के जवाब में चंद्रशेखर ने कहा कि भीम आर्मी एक समाजिक संगठन है. भीम आर्मी 2019 में चुनाव नहीं लड़ेगी. हालांकि आने वाले चुनाव में हमारा उद्देश्य बीजेपी को जड़ से उखाड़ फेंकने का है. मायावती को मेरे बारे मे गुमराह किया गया है, लेकिन हमारी कोशिश बहुजन समाज की सरकार बनावाने की होगी.