फिरोज खान नियुक्ति मामला: मशाल जुलूस के बाद अब छात्रों ने भिक्षाटन कर जताया विरोध

डॉ. फ़िरोज़ की नियुक्ति के विरोध में 15 दिन तक चले धरने के बाद कार्यवाही के लिए BHU प्रशासन द्वारा मांगे गए 10 दिन के समय में से आंदोलन के कल सातवें दिन छात्रों द्वारा मशाल जुलूस निकाला गया था.

फिरोज खान नियुक्ति मामला: मशाल जुलूस के बाद अब छात्रों ने भिक्षाटन कर जताया विरोध
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्कृत विद्या धार संकाय के छात्रों द्वारा डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध जारी है.

वाराणसी: बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के छात्र लगातार प्रोफेसर फिरोज खान की नियुक्ति को लेकर अलग-अलग तरीके से अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों ने गुरुवार को मदन मोहन मालवीय जी का वेष धारण कर छात्रों ने भिक्षाटन किया. जनता का समर्थन लेने व प्रशासन द्वारा मांग पूरी न होने पर क़ानूनी लड़ाई के लिए महामना के सम्मान की रक्षा के लिए छात्रों द्वारा गुरुवार के दोपहर लंका सिंह द्वार से भिक्षाटन किया गया. इससे पहले छात्रों ने फिरोज खान की नियुक्ति के विरोध में मशाल जुलूस भी निकाला था.

संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में डॉ. फ़िरोज़ की नियुक्ति के विरोध में 15 दिन तक चले धरने के बाद कार्यवाही के लिए BHU प्रशासन द्वारा मांगे गए 10 दिन के समय में से आंदोलन के कल सातवें दिन छात्रों द्वारा मशाल जुलूस निकाला गया था. काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्कृत विद्या धार संकाय के छात्रों द्वारा डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध जारी है. एक ओर इस आंदोलन के तहत एक ओर छात्र कक्षाओं का बहिष्‍कार कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. दूसरी ओर विवि प्रशासन की ओर से किसी नतीजे पर नहीं पहुंचने से संकाय में पठन-पाठन पूरी तरह प्रभावित है.

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में धर्म संकाय विभाग के प्रोफेसर फिरोज खान की नियुक्ति का विवाद अब अयोध्या भी पहुंच गया है. यहां के संत-धर्माचार्य और संस्कृत के शिक्षकों ने नगर के तोताद्रि मठ में बैठक कर नियुक्ति का विरोध किया. बैठक में बीएचयू के कई विद्यार्थी भी थे. सभी ने कहा कि अगर जल्द ही प्रोफेसर को नहीं हटाया गया तो, देशव्यापी आंदोलन किया जाएगा.