लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में महागठबंधन को हराने के लिए BJP का नया मास्टर प्लान

अमित शाह ने संगठन के पदाधिकारियों से मुलाकात और चर्चा के बाद अपने पत्ते खोले और महागठबंधन के लड़ने के टिप्स और जीत का मंत्र दिया. 

लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में महागठबंधन को हराने के लिए BJP का नया मास्टर प्लान
बीजेपी कार्यकर्ता एक सितंबर से चुनाव तक लगातार उन पांच लाभार्थियों के साथ संपर्क में रहेंगे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/लखनऊ: उत्तर प्रदेश में महागठबंधन को पटकनी देने के लिए बीजेपी ने एक नया मास्टर प्लान तैयार किया है. सूत्रों के मुताबिक, इस मास्टर प्लान को खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तैयार किया है. मौजूदा समय में केंद्र और प्रदेश दोनों ही जगह सत्ता में बीजेपी मौजूद है और इसी का फायदा उठाते हुए यूपी के लिए एक अलग से मास्टर प्लान तैयार करके महागठबंधन को पटखनी देने की तैयारी है. ये सभी जानते हैं कि जिसने भी आम चुनावों में यूपी पर कब्जा किया, उसके लिए दिल्ली दूर नहीं. 

ये भी पढ़ें: बीजेपी के 'शाह' ने खींचा 2019 का खाका, 1 सितंबर से फूकेंगे चुनावी बिगुल

बीजेपी और पार्टी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह ये जानते है कि 2019 में दिल्ली की सत्ता के लिए यूपी पर फतह हासिल करना जरूरी है. सूत्रों ने मुताबिक, अपने दो दिवसीय यूपी दौरे पर आए अमित शाह ने संगठन के पदाधिकारियों से मुलाकात और चर्चा के बाद अपने पत्ते खोले और महागठबंधन के लड़ने के टिप्स और जीत का मंत्र दिया. 

अमित शाह ने ये टिप्स दिए हैं कि पार्टी का एक कार्यकर्ता कम से कम सरकारी योजनाओं से लाभ पाने वाले पांच लाभार्थियों से मुलाकात करेंगे और उनके मन को टटोलने की कोशिश करेंगे. बताया जा रहा है कि बीजेपी कार्यकर्ता एक सितंबर से चुनाव तक लगातार उन पांच लाभार्थियों के साथ संपर्क में रहेंगे. 

कार्यकर्ता की लाभार्थी से मुलाकात का एक डिजिटल डाटा बनेगा. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी के एक करोड़ तीस लाख सक्रिय कार्यकर्ता हैं. इस हिसाब से लगभग साढ़े छह करोड़ वोटरों तक बीजेपी की सीधी पहुंच हो जाएगी. जोकि, आम चुनाव में मिलने वाली जीत में एक अहम भूमिका निभा सकते हैं. हालांकि, बीजेपी के इस मास्टर प्लान पर विरोधी दल निशाना साधने से नहीं चूक रहे हैं.

ये भी पढ़ें: 11 जुलाई को अमित शाह का झारखंड दौरा, तैयारी में जुटी बीजेपी

विपक्ष का कहना है कि बीजेपी चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, बीजेपी लेकिन वो महागठबंधन से पार नहीं पा पाएंगे. समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा कि विपक्ष का मानना है कि जनता नेता को तभी राजा बनाती है, जब उसने अपनी प्रजा के लिए कुछ किया हो. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने कोई काम जमीन पर किया ही नहीं, तो बीजेपी के कार्यकर्ता लोगों से मिलकर क्या बात करेंगे. विपक्ष के सवाल अपनी जगह है. लेकिन, बीजेपी की तैयारी बड़ी है. बीजेपी को लगता है कि अमत शाह के इस मंत्र के सहारे पार्टी यूपी में 2014 के करिशमें को दोहरा सकती है.