गाजियाबाद: BJP विधायक का आरोप, 'छोटा हरिद्वार' में जान बचाने वाले ही लेते हैं जान

लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने डीएम ऋतु माहेश्वरी को पत्र लिखकर शिकायत की है कि गंगनहर में एक गैंग लूटने के इरादे से लोगों को डुबो देता है. 

गाजियाबाद: BJP विधायक का आरोप, 'छोटा हरिद्वार' में जान बचाने वाले ही लेते हैं जान
यहां स्नान करने दिल्ली-एनसीआर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं.

नई दिल्ली/ गाजियाबाद, (अश्विनी कुमार) :  उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के मुरादनगर गंगनहर और यहां की चहल-पहल लोगों को आकर्षित करती है. शायद यहां के इसी आकर्षण देखकर, श्रद्धालुओं की भीड़ को देखकर यहां आस्था रखने वाले लोगों ने यहां का नाम छोटा हरिद्वार रख दिया. लेकिन अब यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है. लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने डीएम ऋतु माहेश्वरी को पत्र लिखकर शिकायत की है कि गंगनहर में एक गैंग लूटने के इरादे से लोगों को डुबो देता है. विधायक की इस शिकायत के बाद डीएम ने इसकी जांच एसडीएम मोदीनगर पवन अग्रवाल को सौंपी है. 

 BJP mla Nand Kishore Gurjar says divers gang of gangnahar commit crime

विधायक ने कहा कि नहर में पहले से ही पत्थर और रस्सी रखी दी जाती है, जिसके सहारे लोगों को बांध दिया जाता है. इसके कुछ ही देर में उनकी मौत हो जाती है और फिर उनके सामान लूट लिया जाता हैं. विधायक ने अपने पत्र में मंदिर के महंत पर भी इस वारदात में शामिल होने का आरोप लगाया है.

ये भी पढ़ें: गाजियाबाद: BJP विधायक पर जानलेवा हमला, बाइक सवार 4 बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

वहीं, घाट पर बने मंदिर के महंत ने विधायक के इन आरोपों को खारिज कर दिया है. महंतों का कहना है कि सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए विधायक का ये नया स्टंट है. आपको बता दें कि मुरादनगर में मेरठ रोड पुल के पास गंगनहर किनारे एक मंदिर है. मंदिर पर छोटा हरिद्वार का बोर्ड लगा है.  इस जगह स्नान करने दिल्ली-एनसीआर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं. वहीं इस मामले पर डीएम का कहना है कि लोनी विधायक का इस संबंध में पत्र मिला है. मामला गंभीर है जिसकी जांच कराई जा रही है. 

ये भी पढ़ें: CM योगी ने हरिद्वार में की गंगा आरती

इस मामले पर स्थानीय लोगों का कहना है कि जो लोग स्टंट करते हैं या फिर शराब के नशे में पानी में डुबकी लगाते हैं. जो हादसों की बड़ी वजह है. उन्होंने कहा कि आरोप-प्रत्यारोप के बीच प्रशासन को मुरादनगर में आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के बारे में भी सोचना चाहिए और ये सुनिश्चित करना चाहिए कि आगे से इस तहर की कोई घटना न हो. इस मामले की जांच मोदीनगर के एसडीएम कर रहे हैं. जो जल्दी अपनी जांच रिपोर्ट सौंपेंगे और उसके बाद यह साफ हो पाएगा कि ये हादसे हैं या फिर कोई साजिश है.